Popads

Tuesday, 12 July 2016

हिंदी व्यंग कविता , हिंदी चुटकुले

हिंदी व्यंग कविता , हिंदी चुटकुले 

मिर्ज़ा ग़ालिब कमरतोड़ महगाई और गरीबी से तंग आकर
डाकू बन गए और डकैती करने एक बैंक गए.... 
.
.
बैंक में घुसते ही हवाई फायर करते हुए " अर्ज़ किया -
.
"तक़दीर में जो है वही मिलेगा,
हैंड्स-अप कोई अपनी जगह से नहीं हिलेगा...!!
.
.

ग़ालिब ने फिर ऊँची आवाज में अर्ज किया -
.
"बहुत कोशिश करता हूँ उसकी यादों को भुलाने की,
ध्यान रहे कोई कोशिश न करना पुलिस बुलाने की..."
.
.

फिर कैशियर की कनपटी में बंदूक रखते हुए से कहा-
.
"ए खुदा तूं कुछ ख्वाब मेरी आँखों से निकाल दे,
जो कुछ भी है, जल्दी से इस बैग में डाल दे..."
.
.
कैश लेने के बाद ग़ालिब ने लाकर की तरफ इशारा करके कैशियर से कहा -
.
.

 समझने वाला इश्क क्या सम्हालेगा
लाकर का पैसा क्या तेरा अब्बू बाहर निकलेगा .."
.
.

जाते जाते एक और हवाई फायर करते अर्ज किया -
.
.
"भुला दे मुझको क्या जाता है तेरा,
मार दूँगा गोली जो किसी ने पीछा किया मेरा..."

Jokes .................... बरसात और बहू की किस्मत

किसी ने कहा 'बरसात और बहू की किस्मत में जस (यश) होता ही नहीं।'


पहले तो मुझे कुछ समझ नहीं आया, लेकिन बाद में सोचा तो बड़ी मज़ेदार समानताएँ दीख पड़ीं....

बरसात ना बरसे तो ख़राब, ज्यादा बरसे तो सत्यानाशी।

बहू भी ना बोले तो घुन्नी, बोले तो लबरी।

बरसात धीरे बरसे तो मरी-मरी, जोर से बरसे तो कमरतोड़।

यही हाल बहू का ,

शांति से काम करे तो ढीली माई और फुर्ती से करे तो घास काटणी।
. . 
बरसात कभी भी कहीं भी बरसे हमेशा किसी न किसी को कोई न कोई परेशानी हो ही जाती है।
"लाहोल विला, ये कोई बरसने का टाइम था ..
  दैया रे , मेरे कपड़े भीग गए।

इसी तरह बहू का भाग- मसालेदार खाना बनाने पर " ये ल्लो इत्ती मिर्ची, तेरे ससुर जी का मुँह जल जाएगा। मसाले कम होने पर,अरे कुछ तो मसाले डाला करो दाल में,
मरीजों का सा काढ़ा घोल के रख दिया।
. .
खाने में वैरायटी बनाने पर, ये क्या इडली-फिडली बना दी हमें नहीं भाती ये सब।
सादा खाना बनाये तो,-फिर से रोटी थेप के पटक दी? कुछ और बनाने में जोर आता है।"
.
.

है ना दोनों का भाग एक सा....!!!

Jokes ..................... एक डॉक्टर की शादी इवेंट मैनेजमेंट द्वारा

एक डॉक्टर की शादी इवेंट मैनेजमेंट द्वारा 

EVENT MARRIAGE of a Doctor
.
.

एक नए नए इवेंट मैनेजर को एक डॉक्टर की शादी का कार्यक्रम के प्रबंधन का ठेका मिला.
आदेश था- हर जगह लगना चाहिए कि डॉक्टर की शादी है।
इंतजाम कुछ ऐसे थे: -  
मेहँदी की जगह बीटाडीन लोशन था।
.
.

बारात एम्बुलेंस में आई।
.
.

मंडप अस्पताल के जनरल वार्ड में बना।
.
.

फेरे ऑपरेशन थियेटर में हुए।
.
.

फोटो की जगह X-Ray लिए गए।
.
.

खाने में Vitamin C और आयरन की गोलियां दी गई।
.
.


मेहमानों को चाय या कोल्ड ड्रिंक्स की जगह ग्लूकोज़ और ORS दिया गया।
.
.

वरमाला की जगह Stethoscope गले में पहनाए गए।
.
.


शादी के बाद हनीमून के लिए डबलबेड नहीं स्ट्रेचर रखी गई .
.
.

और सबसे ज्यादा मज़ा तो तब आया फेरों के बाद डॉक्टर बोला
Next . . .