Popads

Wednesday, 15 June 2016

हिंदी मस्त चुटकुले ............. एक नारी का भावुक सन्देश

हिंदी मस्त चुटकुले 

एक नारी का भावुक सन्देश 
मैं एक बेटी हूँ, मैं एक बहन हूँ, मैं एक बीवी हूँ, मैं एक माँ भी हूँ
.
.
.
.
.
.
पर खबरदार जो किसी ने आंटी बोला तो।
.
.
.
.
बैंक में नव नियुक्त केशियर से बैंक मैनेजर ने पूछा:
पैकेट और बण्डल में क्या फर्क होता है ?....जानते हो ??
नया केशियर - जी सर !
पैकेट सिगरेट का होता है...
और बण्डल बीड़ी का!!!
....मैनेजर को मिर्गी का दौरा पड़ा है,
गोबर सुंघा रहे हैं। 
कैशियर लालू-नितीश राज के बिहार टॉपर बताया जा रहा है.. 
.
.
.
.
.
*क्या रखा है इस किताबी संसार में,
*आओ बिना पढ़े टाप करें बिहार में।
.
.
.
.
.
ये जो 
कुल्फी खाते हुये 
एक हंथेली 
कुल्फी के नीचे लगाये रहते हो ना
इसे ही गीता में श्रीकृष्ण ने मोह बताया है. 

Or
और कुल्फी खतम होने के बाद भी जो डण्डी चाटते ही रहते हैं
इसे ही गीता में श्रीकृष्ण ने लोभ कहा है

और कुल्फी खत्म होने से पहले अगर कुल्फी डण्डी से टूटकर नीचे गिर जाये तो मन में उत्पन्न होने वाली भावना को श्रीकृष्ण ने क्रोध बताया है.
..
और डण्डी फेकने के बाद , सामने वाले की कुल्फी देखकर सोचना कि उसकी खत्म क्यों नहीं हुई,
इसे गीता मे ईष्या कहा गया है,
.
.
.
.
.
पत्नी: अजी सुनते हो इस बार गर्मियों की छुट्टियों में हम कहाँ चलेंगे?
पति(रोमांटिक अंदाज़ में गुनगुनाते हुए): जहाँ ग़म भी ना हो। आंसू भी ना हो। बस प्यार ही प्यार पले।
पत्नी: देखो जी ऐसा तो बिलकुल नहीं हो सकता। मैं तो साथ चलूँगी ही चलूँगी।
.
.
.
.
.
पति अपनी नाराज़ पत्नी को रोज़ फोन करता है…
.
.
साँस – “कितनी बार कहा कि वो अब तुम्हारे
घर नहीं आयेगी,
फिर रोज-रोज क्युं फोन करते हो…???”
.
.
.
.
.
जमाई – “सुन कर अच्छा लगता है, इसलिए…”
.
.
.
.
.
एक नवविवाहित जोड़ा बर्तन की दुकान
में झगड़ रहा था।
पत्नी-” ये वाला स्टील का गिलास
लो”।
पति-“नहीं, ज़रा और बड़ा गिलास लेंगे” !
दुकानदार-“साहब जी, महिला दिवस
भले ही चला गया है,
लेकिन मैडम जो कह
रही हैं, वही गिलास ले लीजिए ना”..!!!
पति -“अरे भैया तुम्हें बेचने की पड़ी है
लेकिन इस छोटे से गिलास में मेरा हाथ
घुसता नहीं है, मैं इसे माँजूगा कैसे ?
.
.
.
.
.
ससुर : आइए दामाद जी आज अचानक कैसे दर्शन दे दिए ??
दामाद : आपकी बेटी से झगड़ा हो गया था, वो बोली
"जहन्नुम में जाओ "
.
.
.
गर्मी के दोहा..
पंखा देखत रात गई ..आई ना लेकिन लाईट।
मच्छर गाते रहे कान में .. पार्टी आँल नाईट।