Popads

Thursday, 28 January 2016

The Great Albert Einstein Stories

The Great Albert Einstein Stories

(1)One day during a speaking tour, Albert Einstein's driver, who often sat at the back of the hall during his lectures, remarked that he could probably give the lecture himself, having heard it so many times. Sure enough, at the next stop on the tour, Einstein and the driver switched places, with Einstein sitting at the back in his driver's uniform. Having delivered a flawless lecture, the driver was asked a difficult question by a member of the audience. "Well, the answer to that question is quite simple," he casually replied. "I bet my driver, sitting up at the back there, could answer it!"

(2)   Albert Einstein's wife often suggested that he dress more professionally when he headed off to work. "Why should I?" he would invariably argue. "Everyone knows me there." When the time came for Einstein to attend his first major conference, she begged him to dress up a bit. "Why should I?" said Einstein. "No one knows me there!"
(3)Albert Einstein was often asked to explain the general theory of relativity. "Put your hand on a hot stove for a minute, and it seems like an hour," he once declared. "Sit with a pretty girl for an hour, and it seems like a minute. That's relativity!"

(4)When Albert Einstein was working in Princeton university, one day he was going back home he forgot his home address. The driver of the cab did not recognize him. Einstein asked the driver if he knows Einstein's home. The driver said "Who does not know Einstein's address? Everyone in Princeton knows.Do you want to meet him?. Einstein replied "I am Einstein. I forgot my home address, can you take me there? "The driver reached him to his home and did not even collect his fare from him.

(5)Einstein was once traveling from Princeton on a train when the conductor came down the aisle, punching the tickets of every passenger. When he came to Einstein, Einstein reached in his vest pocket. He couldn't find his ticket, so he reached in his trouser pockets. It wasn't there, so he looked in his briefcase but couldn't find it. Then he looked in the seat beside him. He still couldn't find it.
The conductor said, 'Dr. Einstein, I know who you are. We all know who you are. I'm sure you bought a ticket. Don't worry about it.' Einstein nodded appreciatively. The conductor continued down the aisle punching tickets. As he was ready to move to the next car, he turned around and saw the great physicist down on his hands and knees looking under his seat for his ticket.
The conductor rushed back and said, 'Dr. Einstein, Dr. Einstein, don't worry, I know who you are. No problem. You don't need a ticket. I'm sure you bought one.' Einstein looked at him and said, 'Young man, I too, know who I am. What I don't know is where I'm going.'

6) When Einstein met Charlie Chaplin:
Einstein said, "What I admire most about your art, is its universality. You do not say a word, and yet ... the world understands you."
"It's true," replied Charlie Chaplin, "But your fame is even greater: The world admires you, when nobody understands you."

"युवा नेता" बनने की विधि. .

"युवा नेता" बनने की विधि. .


कुल लागत/इन्वेस्टमेंट : 15 लाख
आवश्यक सामग्री :- 1 SUV दस-बारह लाख की ।।
सफ़ेद कलफ लगे कुर्ते-पजामे, सफ़ेद लिनेन के शर्ट पेंट ।।
सोने की 2 चेन ।।
सोने की अंगूठी-ब्रेसलेट ।।
2 आई फोन ।।
ब्रांडेड जूते-सेंडिल ।।
ब्रांडेड कलाई घडी ।।
1 चश्मा Ray ban का ।।
क्लासिक का सिगरेट पैकेट ऑफर करने के लिए ।।
रजनीगंधा का डिब्बा ।।
4-6 जी हुजूरी करते चेले..

कैसे बने :- अपने SUV के नंबर प्लेट में नंबर की जगह अपनी पार्टी के झंडे का चिन्ह बनवाये और अपने 4-6 चेलो को अपनी SUV में सदैव
बैठा कर रखे।। 
SUV में बैठ के मोबाइल कान में ही लगा के रखे..
भले ही आप काले हो और ये वस्त्र आप पर जमे नहीं पर अपनी देह को सफ़ेद कुर्ते-पजामे और सोने
के आभूषण से सुसज्जित करे..
और किसी भी एक बड़े
नेता के इर्द गिर्द परिक्रमा प्रारम्भ करे..
अपने नेता को प्रसन्न करने के लिए "मंच-माइक-माला" की यथासंभव ज्यादा से ज्यादा व्यवस्थाये करे..

नेता जी के आगे पीछे
घूमते हुए उनकी "सेवा-पूजा" करते रहे, अपने नेता जी के साथ और उनके भी नेता जी के साथ फोटो खिंचवा कर घर एवं अपने व्यापारिक
प्रतिष्ठान में लगावे..
हर छोटे बड़े कार्यक्रम, त्यौहार, जन्मदिन पर पुरे शहर में फ्लेक्स लगवाये..

मीडिया के लोगो से सेटिंग कर अपनी फ़ोटो अखबारो में छपाते रहे..
समय समय पर अपने क्षेत्र में
चतुर्थ श्रेणी के सरकारी अधिकारियों पर रौब झाड़ते रहे..


* भले ही घर का आटा भी पीसाने नहीं गए हो पर लोगो से मिलकर उनके काम करे
* भले माता पिता की रत्ती भर सेवा और प्यार से बात न की हो पर लोगो से हमेशा हाथ जोड़कर और  कोमलता से ही बात करे
* अपने छर्रे तमंचो के छोटे फ़ोटो भी साथ में फ्लेक्स पर लगवाते रहे और नास्ता पानी की व्यवस्था कराते रहे 
तभी वो आपके आसपास मंडराएंगे


* भले ही कितने पापी हो और बचपन से मंदिर नहीं गए हो पर समय समय पर धार्मिक अनुष्ठान, यज्ञ और भंडारों में अपनी उपस्थिति और भजन का आयोजन कराते रहे । ध्यान रखे इसमें भी होर्डिंग बाजी जरुरी है

* भजन आयोजन में भले ही आवाज फटे बाँस जेसी हो पर कभी कभी भजन भी गए

* मोबाइल के साथ, कभी दाढ़ी में, काले चश्मे में, तिलक लगाकर हाथ जोड़े हुए फ़ोटो फ्लेक्स पर  लगाते रहे ताकि जनता हर रूप में पहचानने लगे

*प्रदर्शन में बाद चढ़कर हिस्सा ले और ध्यान रखे की पेपर की फोटो और टीवी न्यूज़ में आप ज्यादा दिखे.... इसके लिए थोडा ख़र्च भी करें ..ताकि आप मीडिया में दीखते रहें

*रैली में लोगो की गाडी में 100 रुपये का पेट्रोल भरा कर नास्ता पानी करा के रैली में ज्यादा से ज्यादा लोगो को इक्ठ्ठा करने की जुगाड़ करे

* वादे ,झूट और आस्वासन देंना सीखे
लो जी अब तैयार हैं शहर
का एक और युवा नेता..


***** ये 15 लाख लागत नहीं इन्वेस्टमेंट है कोई पद मिलने पर इसका 1000 गुना रिटर्न पक्का है.....

Hasya Poems by Kaka ............. पुलिस-महिमा...

हिंदी की दुर्दशा -काका हाथरसी

बटुकदत्त से कह रहे, लटुकदत्त आचार्य
सुना? रूस में हो गई है हिंदी अनिवार्य
है हिंदी अनिवार्य, राष्ट्रभाषा के चाचा-
बनने वालों के मुँह पर क्या पड़ा तमाचा
कहँ ‘ काका ' , जो ऐश कर रहे रजधानी में
नहीं डूब सकते क्या चुल्लू भर पानी में

पुत्र छदम्मीलाल से, बोले श्री मनहूस
हिंदी पढ़नी होये तो, जाओ बेटे रूस
जाओ बेटे रूस, भली आई आज़ादी
इंग्लिश रानी हुई हिंद में, हिंदी बाँदी
कहँ ‘ काका ' कविराय, ध्येय को भेजो लानत
अवसरवादी बनो, स्वार्थ की करो वक़ालत



मोटी पत्नी...

ढाई मन से कम नहीं, तौल सके तो तौल।
किसी-किसी के भाग्य में, लिखी ठौस फ़ुटबौल।
लिखी ठौस फ़ुटबौल, न करती घर का धंधा।
आठ बज गये किंतु पलंग पर पड़ा पुलंदा।
कह ‘ काका ' कविराय, खाय वह ठूंसमठूंसा।
यदि ऊपर गिर पड़े, बना दे पति का भूसा। 



पुलिस-महिमा...

पड़ा - पड़ा क्या कर रहा, रे मूरख नादान
दर्पण रख कर सामने , निज स्वरूप पहचान
निज स्वरूप पह्चान , नुमाइश मेले वाले
झुक - झुक करें सलाम , खोमचे - ठेले वाले
कहँ ‘ काका ' कवि , सब्ज़ी - मेवा और इमरती
चरना चाहे मुफ़्त , पुलिस में हो जा भरती

कोतवाल बन जाये तो , हो जाये कल्यान
मानव की तो क्या चले , डर जाये भगवान
डर जाये भगवान , बनाओ मूँछे ऐसीं
इँठी हुईं , जनरल अयूब रखते हैं जैसीं
कहँ ‘ काका ', जिस समय करोगे धारण वर्दी
ख़ुद आ जाये ऐंठ - अकड़ - सख़्ती - बेदर्दी

शान - मान - व्यक्तित्व का करना चाहो विकास
गाली देने का करो , नित नियमित अभ्यास
नित नियमित अभ्यास , कंठ को कड़क बनाओ
बेगुनाह को चोर , चोर को शाह बताओ
‘ काका ', सीखो रंग - ढंग पीने - खाने के
‘ रिश्वत लेना पाप ' लिखा बाहर थाने के 



मुर्ग़ी और नेता...

नेता अखरोट से बोले किसमिस लाल
हुज़ूर हल कीजिये मेरा एक सवाल
मेरा एक सवाल, समझ में बात न भरती
मुर्ग़ी अंडे के ऊपर क्यों बैठा करती
नेता ने कहा, प्रबंध शीघ्र ही करवा देंगे
मुर्ग़ी के कमरे में एक कुर्सी डलवा देंगे

Some anesthesia proverbs

Some anesthesia proverbs

Needle needle pe likha hain spinal denewale ka naam

High risk consent lena matlab bhains ke aage been bajana 

Mask ventilation is like doobnewale ko tinke ka sahara 

Cytoscopy in a complicated geriatric patient then aamdani atthanni, kharcha rupaiah 

After a complicated case
  Ant bhala toh sab bhala

When surgeon wants more relaxation
  Naach na jaane aangan teda

Professor gets spinal after everyone tries
  Sau sonar ki ek Lohar ki 

Surgeon blaming anesthetist for hypotension
  Ulta chor kotwal ko daante

Two pgs and one epidural
  Ek myaan mein do talwar 

Accepting a risky case
  Aa bail mujhe maar

Spinal in obese
  Andhere mein teer chala na