Popads

Monday, 29 February 2016

Alia Bhatt Romantic and bold scenes with Sidharth Roy.............







Saturday, 27 February 2016

Jokes ............ : पत्नी विकास क्रम :

  : पत्नी विकास क्रम :  


★ सन् 1960 ★

पति - एक कप चाय ?
पत्नी - (पहले से लिए खड़ी मिलती थी)


★ सन् 1970 ★
पति - एक कप चाय ?
पत्नी - अभी लाई जी ।


★ सन् 1980 ★
पति - एक कप चाय ?
पत्नी - लाती हूँ ।


★ सन् 1990 ★
पति - एक कप चाय ?
पत्नी - ला रही हूँ थोडा सब्र रखो ।


★सन् 2000 ★
पति - एक कप चाय ?
पत्नी - लाऊंगी अभी सीरियल में ब्रेक
तो आने दो ।


★ Now a days ★
पति - एक कप चाय ?
पत्नी - क्या कहा.......
पति - एक कप चाय बनाने जा रहा
था, सोचा तुमसे भी पूछ लूँ,
पियोगी क्या ???







Friday, 26 February 2016

Worst railway budget of all time.Totally disappointed.

Worst railway budget of all time.Totally disappointed.
*No train from India to Bangladesh - Didi disappointed
*No special bogies in every train for Dharna - Kejriwal disappointed
*No reservation on the grounds of caste in the bogies - Lalu/Nitish/Ravish disappointed
*No arrangements for matinee show of Chhota Bheem and Doremon in Trains and stations - RaGa disappointed
*No 'Kashmir Azadi' express train proposed - JNU disappointed
*No 'Vibishan Express' proposed - Shratugan Sinha disappointed
*No assurance of ‪#‎Tolerance‬ by the railway minister - Award Wapasi Gang/ Aamir Khan disappointed
*No train to Pakistan - Manishankar Iyer/Salman Khurshid disappointed
*No subsidized water in the trains and stations - Delhites who voted for AAP disappointed
*No special quota for minorities - Anti Modi gang / Presstitues disappointed.

Thursday, 25 February 2016

गुस्ताखी माफ़ ,पाकिस्तान साफ

 उन्होंने कंधार में प्लेन हाईजैक किया, हमने 'ज़मीन' मूवी में उसे छुड़ा लिया.... उन्होंने '26/11' किया, हमने 'बेबी' और 'फैन्टम' में डेविड कोलमन हेडली, ज़कीउर रहमान लखवी और हाफिज़ सईद को मार गिराया..... ! जल्द ही हम पठानकोट का बदला लेंगे, बस निर्माता निर्देशक का जुगाड़ हो जाए😕
.
.
.
.
बॉर्डर पे एक जवान ने पाकिस्तान के जनरल को क्या खूब जवाब दिया:-
खुशनसीब हो तुम जो शेर का शिकार करते हो।
हमें तो हर रोज़ कुत्ते मारने पड़ते है। jai hind
.

.
.
.
.
अरे काहे रोज रोज का झंझट . . .
इस 26
जनवरी को उठा के एक मिसाइल ठोक
दो पाकिस्तान पर . . .

ज्यादा हल्ला हो तो कह
देना . .

ओबामा भाई को दिखा रहे थे, गलती से बटन दब गया था ।
गुस्ताखी माफ़ ,पाकिस्तान साफ



Sunday, 21 February 2016

बुद्धिजीवी बनने के बीस असरदार तरीके... (101% गारंटी)

बुद्धिजीवी बनने के बीस असरदार तरीके...(101% गारंटी)

1-जोर जोर से नरेंद्र मोदी मुर्दाबाद बोलें

2-बीच बीच में जो आपसे तर्क करे उसे मूढ़ और संघी कहें।

3-सिगरेट जलाकर दाढ़ी खुजाएं और किसी राष्ट्रीय कृति का मजाक उड़ाते हुए धुआँ छोड़ें।

4-कोई अगर कहे की "हमें अपने देश से प्रेम है" तो उसे भगवा आतंकी कहें ।

5-एसी में बैठकर बीसलेरी पीते हुए किसानों और मजदूरों की चिंता करें और वर्तमान सरकार को पानी पी पीकर कोसें।

6-हर जगह आरक्षण को जरूरी बताएं....महंगे होटल के कमरे में बैठकर दलित विमर्श करें...जाति आधारित आरक्षण विरोधीयों को मनुवादी करार दें।

7-सुबह दस बजे सोकर उठें...योग,ध्यान, प्राणायाम करने वालों का मजाक उड़ाएं...रात को अमेरिका का दारू पीकर अमेरिका को गरियायें और बीबी को पीटकर कर स्त्री विमर्श पर धारदार लेख लिखें।

8-दादरी पर खूब चिल्लाएं और मालदा पर किसी दूर देश का संगीत सुनें.. बीच बीच में अफजल याकूब को मानावतावादी बताकर कलाम के मिशाइल अभियान को मनुष्यता के लिए घातक बताएं।

9-भारत के क्रिकेट जीतने पर टेनिस और रग्बी की बारिकियों पर चर्चा और फुटबॉल में भारत की दुर्दशा पर बहस करें साथ ही क्रिकेट जीत पर खुश होने वालों को बेवक़ूफ़ संघी कहें।

10-सड़क पर पान थूककर स्वच्छ भारत अभियान को असफल बताएं और साथ में ये भी जोड़ें कि फैली हुई गंदगी और स्वच्छता समस्या के जिम्मेदार नरेंद्र मोदी हैं 

11-वर्तमान सरकार को रोज गाली दें और बताएं की ये देश मनमोहन सिंह अच्छे से चला रहे थे और राहुल गांधी में बहुत सम्भावनाएं हैं।

12-गांधी को महात्मा माने या न मानें गोड़से को दुष्ट आत्मा और मावो,स्टालिन को पुण्यात्मा जरूर मानें

13-अभिव्यक्ति के अधिकार पर दिन रात चिंता व्यक्त करें..सेमीनार में व्याख्यान देते हुए सरकार को फासिस्ट कहें और दूसरों कि अभिव्यक्ति का तनिक भी सम्मान न करें उसे तुरन्त संघी करार दें।

14-गौ मांस निर्यात और सड़क पर घूम रही गायों का हिसाब रखें...गौ प्रेमियों का मजाक उड़ाएं...शाम को बीफ फेस्टिवल में जाकर जोर से कहें. "हाँ मैं बीफ खाता हूँ"

15-महिलावों के अधिकारों समानता और दैहिक आजादी की दिन रात बातें करें उस पर कविता लेख लिखें ...लेकिन बेटी कि शादी अपने जाति में ही करें...शाम को बीबी से जबदस्ती पैर दबवाते हुए स्त्री सशक्तिकरण पर चिंता व्यक्त करें।

16-गीता,रामायण,महाभारत वेद कभी न पढ़ें..हिन्दूओं के सभी ग्रन्थों त्योहारों परम्परावों का खूब मजाक उड़ाते इसे मानने वालों को जाहिल साबित करते हुए प्रगतिशील फील करें...हाँ याद रखें.. टोपी लगाके ईद कि मुबारकवाद जरूर दें लेकिन गुरुनानक जयंती कब है ये भूलकर सेक्यूलर महसूस करें।

17-सुबह उठकर फेसबुक पर सरकार कि ऐसी की तैसी करते हुए खूब कोसें और साथ में ये जरूर लिखें कि देश में इमरजेंसी जैसे हालात हैं। जो आपसे सहमत न हो उसे तुरन्त ब्लॉक करें।

18-घर से बाहर सड़क पर कभी न निकलें घर में बैठकर ये साबित करें कि आप देश और दुनिया कि चिंता में मरे जा रहें हैं।

19-विचार करें या न करें कुछ पढ़ें या न पढ़ें लेकिन हर जगह खुद को सर्व ज्ञाता पढ़ा लिखा और सबसे सुलझा और समझदार साबित करते रहें...मने बुद्धिजीवी बनने से ज्यादा बुद्धिजीवी दिखने पर ध्यान दें।

20- देश का खाएं,देश का पियें ,देश में रहें मौज करें लेकिन दिन रात देश की निंदा करे

Students Special Jokes विद्यार्थी चुटकुले

विद्यार्थी चुटकुले 

केवल स्टूडेंट के लिए
..
अगर प्रशन पेपर मुश्किल लगे, या समझ में ना आये तो एक
गहरी सांस लो और जोर से चिल्लाओ,
"कमीनों, फेल ही करना है तो परिक्षा ही क्यों लेते
हो।
.
.
.
.
.

एग्जाम के पावन मौके पर अर्ज़ है:
पढ़ना लिखना त्याग दे
नकल से रख आस;
ओढ़ रजाई सो जा बेटा;
रब करेगा पास।
पर्ची वाले बाबा की जय
.
.
.
.
.
.

निगाहें आज भी उस शख्स को शिद्दत से तलाश करती
हैं;
जिसने कहा था, "बस दसवी कर लो, आगे पढ़ाई आसान
है"।
.
.
.
.
.

बहुत दर्द होता है जब अध्यापिका बोलती है कि
तुम्हारा और तुम्हारे आगे वाले का जवाब एक है।
तब दिल से आवाज आती है, "तो साला सवाल भी तो
एक ही था"।
.
.
.
.
.
.

अगर एक अकेला टीचर सारे विषय (subject) नहीं पढ़ा
सकता तो;
ऐसी उम्मीद क्यों करते हैं कि एक विद्यार्थी सारे
विषय (subject) पढ़े।
"जागो बच्चों जागो"
.
.
.
.
.

हर युग में ऐसा होता है;
हर स्टूडेंट इश्क में खोता है;
पढ़ाई रह जाती है सिर्फ दिखावे की;
और फिर हाल-ए-दिल, मार्कशीट पर बयाँ होता है।
.
.
.
.
.

हर तरफ पढ़ाई का साया है;
हर पेपर में जीरो आया है;
हम तो यूहीं चले जाते हैं बिना मुंह धोये ही;
और लोग कहते हैं, 'साला रात भर पढ़कर आया है।'
.
.
.
.
.

जब question पेपर हो आउट ऑफ़ कंट्रोल;
आंसर शीट को करके फोल्ड;
एयरोप्लेन बना के बोल;
भैया "आल इज़ फेल।"
.
.
.
.
.
.

पढ़ाई सिर्फ दो वजह से होती है?
एक शौक से;
और
दूसरा खौफ़ से।
फालतू के शौक हम रखते नहीं;
और
खौफ़ तो हमें किसी के बाप का भी नहीं।
.
.
.
.
.
.
.

एक विद्यार्थी की दर्द भरी शायरी:
स्टूडेंट्स के दर्द को यह स्कूल वाले क्या जाने;
क्लास के रिवाज़ों से सब माँ-बाप हैं अनजाने;
होती है कितनी तकलीफ एक पेपर लिखने में;
ये दर्द वो पेपर चेक करने वाला क्या जाने।
.
.
.
.
.
.

परीक्षा के बाद बच्चे और ऑपरेशन के बाद डॉक्टर एक
ही चीज़ कहते हैं,
.
.
.
.
.
.
.
"कुछ कह नहीं सकते, बस दुआ करें"।
.
.
.
.
.
.

हम जीते एक बार हैं
मरते एक बार हैं;
प्यार भी एक बार करते हैं;
शादी भी एक बार ही करते हैं;
तो फिर ये EXAMS बार-बार क्यों?
.
.
.
.
.
.
.

जागो स्टूडेंट्स(Students) जागो...!!!
खुद भी हँसे अपने दोस्तों को भी शेयर करके हंसाएं
.

Saturday, 20 February 2016

5***** Joke ............... A definition of completeness



A therapist has a theory that couples who make love once a day are the happiest. So he decides to test this theory. He convenes all the couples he can find at a special seminar.

He then starts by asking the many people in the audience.  “How many people here make love once a day?”

Half the people raise their hands, each of them grinning widely.

“Once a week?”

A third of the audience members raise their hands, their grins a bit less vibrant.

"How many of you make love once a month?” A few hands tepidly go up. No grins could be sighted.

Then he asks, “OK, how about once a year?” To his shock, one man in the back jumps up and down, jubilantly waving his hands and whistling.

The therapist is shocked—this man's reaction completely disproves his theory! “If you make love only once a year,” he asks, “why are you so happy?”

The man yells, “Today’s the day!”

Thursday, 18 February 2016

Hindi Jokes and Chutkule ................ Lets go for a dinner tonight.

 Motivational message of the year
1) "If you don't love your job ..
Take a home loan ".
U will start loving it...

2) take another loan, you will start loving your boss as well
3) Get married .. You will start loving your office as well ....
.
.
.
.
Girl :- Lets go for a dinner tonight.
Boy (a HR Manager) :- Ok.

Girl :- But where will you take me?

Boy :- Should we go to Mint Food (an economic restaurant) ?
Girl :- No. That's a very cheap place. Let's go to Tomato's (A brutally costly place).
Boy :- *silence for a minute* Ok, See you at 7. I will pick you up from your place.
Boy picks up girl at 7.
On the way...
Boy :- Once I had pani puri competition with my sister and she ate 30 pani-puris and defeated me.
Girl :- What's so difficult in it?
Boy :- Defeating me in Pani-puri eating competition is difficult.
Girl :- I can easily beat you.
Boy :- Please leave it. It's not your cup of tea.
Girl :- Let us have that competition right now.
Boy :- So you want to see yourself defeated?
Girl :- Let's see.
They both stop at a Pani-puri stall.
They start eating.
After about 30 Pani-puri the boy gave up.
The girl was also full, but to defeat her boyfriend,
she ate one more and shouted, "You lose."

The bill was Rs 120/-
Moral of the Story:-
'Main aim of a HR Manager is to satisfy employee with minimum investments.

Winning attitude with less investment, ensuring strong Returns on Investment
.

.
.
सोचना की बच्चे अपने लिए पैदा कर रहे हो या विदेश की सेवा के लिए।
बेटा एडिलेड में,बेटी है न्यूयार्क।
ब्राईट बच्चों के लिए,हुआ बुढ़ापा डार्क।

बेटा डालर में बंधा, सात समन्दर पार।
चिता जलाने बाप की, गए पडौसी चार।

ऑन लाईन पर हो गए, सारे लाड़ दुलार।
दुनियां छोटी हो गई,रिश्ते हैं बीमार।

बूढ़ा-बूढ़ी आँख में,भरते खारा नीर।
हरिद्वार के घाट की,सिडनी में तकदीर।

तेरे डालर से भला,मेरा इक कलदार।
रूखी-सूखी में सुखी,अपना घर संसार।




























Wednesday, 17 February 2016

"न था कुछ तो ख़ुदा था , कुछ न होता, तो ख़ुदा होता डुबोया मुझको होने ने , न मै होता तो क्या होता "

गली क़ासिम में आकर ,
तुम्हारी ड्योढ़ी पे रुक गया हूँ मिर्ज़ा नौशा
तुम्हे आवाज़ दूँ , पहले ,
चली जाएँ ज़रा , परदे में उमराव , तो फिर अंदर कदम रखूँ


चिलमची लोटा सैनी उठ गए हैं 
बरसता था जो दो घंटे को मेह 
छत चार घंटे तक बरसती थी 
उसी छलनी सी छत की , अब मरम्मत हो रही है



सदी से कुछ ज्यादा वक़्त आने में लगा , अफ़सोस है मुझको 
असल में घर के बहार कोयलों के टाल की स्याही लगी थी , वह मिटानी थी 

उसी में बस , कई सरकारें बदली है , तुम्हारे घर पहुँचने में


जहाँ कल्लन को ले के बैठते थे , याद है बलाई मंज़िल पर 
लिफ़ाफ़े जोड़ते थे तुम लेई से ,
ख़तों की कश्तियों में , उर्दू बहती थी 
अछूते साहिल , उर्दू नस्ल छूने लग गयी थी


वहीं बैठेगा कंप्यूटर 
वहीं से लाखों ख़त भेजा करेगा 

तुम्हारे दस्त-ख़त जैसे वो खुश ख़त तो नहीं होंगे , मगर फिर भी 
परस्तारों की गिनती भी , असद अब तो करोड़ों है


तुम्हारे हाथ के लिखे सफ़हात रखे जा रहे हैं 
तुम्हे तो याद होगा 

मसवदा , जब रामपुर से , लखनऊ से , आगरा तक घूमा करता था 
शिकायत थी तुम्हे - 
"यार अब न समझे हैं , न समझेंगे ,वो मेरी बात 
उन्हें दिल और दे , या मुझको जबाँ और ..


ज़माना हर जुबाँ में पढ़ रहा , 
अब तुम्हारे सब सुख़न ग़ालिब 
समझते कितना हैं … 

ये तो वो ही समझें , या तुम समझो


यहीं शीशों में लगवाए गए हैं … 
पैराहन , अब कुछ तुम्हारे . 

ज़रा सोचो तो , किस्मत , चार गिरह कपड़े की , अब ग़ालिब 
की थी किस्मत , ये उस कपड़े की , ग़ालिब का गिरेबां था …


तुम्हारी टोपी रखी है 
जो अपने दौर से ऊंची पहनते थे
तुम्हारे जूते रखे हैं 
जिन्हे तुम हाथ में लेकर निकलते थे 

शिकायत थी कि 
"सारे घर को ही मस्जिद बना रखा है बेग़म ने "


तुम्हारा बुत भी लगवा दिया है 
ऊँचा कद दे कर 

जहाँ से देखते हो , अब तो 
सब बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल लगता है


सभी कुछ है मगर नौशा 
अगरचे जानता हूँ ,

हाथ में जुम्बिश नहीं बुत के …
तुम्हारे सामने एक साग़र-ओ-मीना तो रख देते


बस एक आवाज़ है 
जो गूँजती रहती हैअब घर में 
"न था कुछ तो ख़ुदा था , कुछ न होता, तो ख़ुदा होता 
डुबोया मुझको होने ने , न मै होता तो क्या होता "










जेएनयू परिसर में राष्ट्रद्रोही प्रदर्शन करने वाले छात्रसंगठनो और उनका पक्ष लेते राजनेताओं से देश को सावधान करती नई कविता

जेएनयू परिसर में राष्ट्रद्रोही प्रदर्शन करने वाले छात्रसंगठनो और उनका पक्ष लेते राजनेताओं से देश को सावधान करती  नई कविता

रचनाकार-कवि गौरव चौहान इटावा  


खतरे का उदघोष बजा है,रणभूमी तैयार करो,
सही वक्त है,चुन चुन करके,गद्दारों पर वार करो,



आतंकी दो चार मार कर हम खुशियों से फूल गए,
सरहद की चिंताओं में हम घर के भेदी भूल गए,



सरहद पर कांटे हैं,लेकिन घर के भीतर नागफनी,
जिनके हाथ मशाले सौंपी,वो करते है आगजनी,



ये भारत की बर्बादी के कसे कथानक लगते हैं,
सच तो है दहशतगर्दों से अधिक भयानक लगते हैं,



संविधान ने सौंप दिए हैं अश्त्र शस्त्र आज़ादी के,
शिक्षा के परिसर में नारे भारत की बर्बादी के,



अफज़ल पर तो छाती फटती देखी है बहुतेरों की,
मगर शहादत भूल गए हैं सियाचीन के शेरों की,



जिस अफज़ल ने संसद वाले हमले को अंजाम दिया,
जिस अफज़ल को न्यायालय ने आतंकी का नाम दिया,



उस अफज़ल की फांसी को बलिदान बताने निकले हैं,
और हमारे ही घर में हमको धमकाने निकले हैं,



बड़ी विदेशी साजिश के हथियार हमारी छाती पर,
भारत को घायल करते गद्दार हमारी छाती पर,



नाम कन्हैया रखने वाले,कंस हमारी छाती पर,
माल उड़ाते जयचंदों के वंश हमारी छाती पर,



लोकतंत्र का चुल्लू भर कर डूब मरो तुम पानी में,
भारत गाली सह जाता है खुद अपनी रजधानी में,




आज वतन को,खुद के पाले घड़ियालों से खतरा है,
बाहर के दुश्मन से ज्यादा घर वालो से खतरा है,



देशद्रोह के हमदर्दी हैं,तुच्छ सियासत करते है,
और वतन के गद्दारों की खुली वकालत करते है,



वोट बैंक की नदी विषैली,उसमे बहने वाले हैं,
आतंकी इशरत को अपनी बेटी कहने वाले हैं,



सावधान अब रहना होगा वामपंथ की चालों से,
बच कर रहना टोपी पहने ढोंगी मफलर वालों से,



राष्ट्रवाद के रखवालों मत सत्ता का उपभोग करो,
दिया देश ने तुम्हे पूर्ण,उस बहुमत का उपयोग करो,



हम भारत के आकाओं की ख़ामोशी से चौंके हैं,
एक शेर के रहते कैसे कुत्ते खुलकर भौंके हैं,



मन की बाते बंद करो,मत ज्ञान बाँटिये मोदी जी,
सबसे पहले गद्दारों की जीभ काटिये मोदी जी,



नहीं तुम्हारे बस में हो तो,हमें बोल दो मोदी जी,
संविधान से बंधे हमारे हाथ खोल दो मोदी जी,



अगर नही कुछ किया,समूचा भार उठाने वाले हैं,
हम भारत के बेटे भी हथियार उठाने वाले हैं,

----कवि गौरव चौहान 



















Sunday, 14 February 2016

UP वाले का लव लेटर...

UP वाले का लव लेटर...


मेरी प्यारी पिंकी....
वेलेंटाइन बाबा के कसम!!!

इ लभ लेटर मैं सरसों के खेत से नहीं तुम्हारे मुहब्बत के टावर पर चढ़कर लिख रहा हूँ...
डीह बाबा अऊर काली माई दुनो के कसम...
आज तीन दिन से मोबाइल में टावरे नहीं पकड़ रहा था..
खीसियाना मत... मोहब्बत के दुश्मन खाली हमारे तुम्हारे बाउजी नहीं यूनिनार आ एयरसेल वालें भी हैं..
जब फोनवा नहीं मिलता है न रतिया को तो मनवा करता है कि सड़की पर दउड़ दउड़ कर जान दे दें...

अरे इन सबको आशिक़ों के दुःख का क्या पता रे?
हम चार किलो चावल बेच के नाइट फ्री वाला पैक डलवाये थे...लेकिन हाय रे वेलेंटाइन.. रोज डे निकस गया प्रपोज डे बीत गया आज टेडी डे चला गया..हम तुमको हलो भी नहीं कह पाये।
कभी कभी तो मन तो करता है की चार काठा खेत बेचकर एक दुआर पर टावर लगवा लें..आ रात भर तुमसे इलू इलू करें।
जानती हो आज रहले नही जा रहा था एकदम..
मनवा एतना लभेरिया गया है कि एकदम बेचैनी लेस दिया था...इधर बाऊजी अलगे परसान किये हैं...माई अलगे नोकरी करने के लिए खिसिया रही है....कल आलू में दवाई छिड़कना है.. मटर में पानी चलाना है..
सांझी को गेंहू पीसवाना है नाही तो माई बेलना से मारके सब बेलनटाइन निकास देगी...
फेर चना के खेत घूमना है.


तुमको पता है जब जब सरसो का खेत देखता हूँ न तब तब तुम्हारी बहुते याद आती है..
लगता है तुम हंसते हुए दौड़कर मेरे पास आ रही हो....मन करता है ये सरसों का फूल तोड़कर तुम्हारे जूड़े में लगा दें आ जोर से कहें..."आई लभ यू पिंकी"...


अरे अब गरीब लड़के कहाँ से सौ रुपया का गुलाब खरीदेंगे?....जानती हो हवा एकदम फगुनहटा बह रही है... तुम तो घर से निकलती नहीं हो....यहाँ मटर,चना जौ के पत्ते सरसरा रहे हैं...रहर और लेतरी आपस में बतिया रहे हैं.....मन करता है खेत में ही तुम्हारा दुपट्टा बिछाकर सो जाएं आ सीधे होली के बिहाने उठें...

बाकी तुम्हारे उस बाउजी के अमरिस पुरिया जइसन फेस देखकर ऐसा लगता है जैसे सरसो के खेत में साँड़ घुस आया हो..मनवे बीजूक जाता है।
अच्छा छोड़ो..उस दिन जब बबीतवा के बियाह में तुम आई थी न..हम देखे थे..तुम केतना खुश थी...करिया सूट में एकदम गुलाब जामुन जैसा लग रही थी...तुमको पता है तुमको देखकर हम दुइ घण्टा नागिन डांस किये थे।
ए पिंकी अच्छे से रहना..अब तुम्हारा 18 से परीक्षा भी है....नीमन से पढ़ना..बाकी हम खिड़की पर खड़े होकर नकल करवाने के लिये ज़िंदा हैं न....चिंता मत करना ..बस काका आ विद्या का गाइड खरीद लेना....
इ खाली तुम्हारे इंटर का परीक्षा नहीं मेरे इश्क का इम्तेहान भी है।

अकलेस भाई आ मोलायम सिंग के कसम कवन उड़ाका दल रोक लेगा रे नकल करने से।

बाकी सब ठीके है...रात दिन तुम्हारी याद आती है.पागल का हाल हो गया है.....रहा नहीं जा रहा..
अब खेती का काम करके हमहू जल्दी से दौड़ निकालेंगे ...तेरह को बनारस में भरती है...देखो बरम बाबा का आशीर्वाद रहा तो मलेटरी में भरती होकर तुमसे जल्दी बियाह करेंगे...

हम नहीं चाहते की तुम्हारा बियाह किसी बीटेक्स वाले से हो जाए और हमको तुम्हारे बियाह में रो रोकर पूड़ी पत्तल गिलास चलाना पड़े...
आई लभ यू रे पिंकी। कल दू बजे मातादीन हलवाई के किनारे वाले टिबुल पर आ जाना..बड़ा मन कर रहा है तुमसे मिलने का।
आई मिस यू..

एगो गाना याद किया तुम्हरे खातिर..

ए हो ब्यूटी के खजाना
बाड़ू लभ लेटर के पाना

मनवा लागे नाहीं
जबसे दीदार भइल बा
ए जान हो....
तोहरा से प्यार भइल बा।।
तोहरा से प्यार भइल बा।।

तुम्हारे पियार में हमेशा से पागल
तोहार मंटुआ















मंदी के हालात में एक बिचारे पति की लिखी हुई एक कविता.... ......

 मंदी के हालात में एक बिचारे पति की लिखी हुई एक कविता.... ......

..
..
प्रिय क्यूँ तुम नित नए-नए सूट सिलाती हो !
पुरानी साडी में भी तुम अप्सरा ही नजर आती हो !!!
..
इन ब्यूटी पार्लरों के चक्करों में ना पडा करो !
अपने चांद से चेहरे को क्रीम पाउडर से यूँ ना ढका करो !!!
..
रेस्टोरेंट, होटल व बाहर के खाने में क्या रखा है !
तुम्हारे हाथों से बना बैंगन का भर्ता, इनसे लाख गुना अच्छा है !!
..
इन पहाड़ों के सैर सपाटों में है वो बात कहाँ !
तुम्हारे मायके जैसा इनमे वो ऐशो-आराम कहाँ !!!
..
नौकरों से खिटपिट में, मत सेहत तुम अपनी खराब करो !
झाडू-पौछा लगा और कपड़े धो हल्का सा व्यायाम करो !!!
..
सोने-चांदी में मिलती, अब सौ सौ खोट है !
तुम्हारी सुन्दरता ही 24 कैरेट प्योर गोल्ड है !!!
..
कार कार मत कर पगली, कार प्रदूषण बढाती है,
सबसे अच्छी मेट्रो अपनी, जल्दी से पहुंचाती है !!!
..
सिनेमा देखना ठीक नही, स्वाइन फ्लू का खतरा है,
एकता कपूर का सीरियल देखो, वही साफ-सुथरा है !!!
..
माया-माया मत किया कर पगली, यह तो महा ठगिनी है !
मेरे इस घर-आंगन की तो, तू ही असली धन लक्ष्मी है !!!
.
.
.
.
.
 "माँ" और "बीवी" में एक फर्क ये है की....
माँ बेटे के रग रग को पहचानती है..
और
बीवी केवल दुखती रग को.. 

Punishment for pharma doctor relationship notified Medical Council of India Notification

Punishment for pharma doctor relationship notified  Medical Council of India Notification


 New Delhi, the 28th January, 2016 No.  MCI-211(1)/2010(Ethics)/163013.—  In exercise of the powers conferred by Section 33 of the Indian Medical Council Act, 1956 (102 of 1956), the Medical Council of India with the previous sanction of the Central Government, hereby makes the following Regulations to amend the "Indian Medical Council (Professional Conduct, Etiquette and Ethics) Regulations, 2002:—

 1. (i) These Regulations may be called the "Indian Medical Council (Professional Conduct, Etiquette and Ethics) (Amendment) Regulations, 2015."

    (ii) They shall come into force from the date of their publication in the Official Gazette.
 2. In the "Indian Medical Council (Professional Conduct, Etiquette and Ethics) Regulations, 2002", the following additions/modification/deletions/substitutions, shall be, as indicated therein:-

 3. (i) The title of Section 6.8, as amended vide notification dated 10/12/2009, shall be further amended by deleting the words "and professional association of doctors" as under:-
 "6.8 Code of Conduct for doctors in their relationship with pharmaceutical and allied health sector industry"
(ii) Section 6.8.1. (b), as amended vide notification dated 10/12/2009, shall be substituted as under:—
 (b) Travel Facilities : A medical practitioner shall not accept any travel Facility inside the country or outside, including rail, road, air, ship, cruise tickets, paid vacation, etc. from any pharmaceutical or allied healthcare industry or their representatives for self and family members for vacation or for attending conferences, seminars, workshops, CME Programme, etc. as a delegate.
 (iii) Action to be taken by the Council for violation of Section 6.8, as amended vide notification dated 10/12/2009, shall be prescribed by further amending the Section 6.8.1 as under:—

6.8.1 In dealing with Pharmaceutical and allied health sector industry, a medical practitioner shall follow and adhere to the stipulations given below:-
a) Gifts: A medical practitioner shall not receive any gift from any pharmaceutical or allied healthcare industry and their sales people or representatives.
Action: Gifts more than Rs. 1,000/- up to Rs. 5,000/- : Censure
Gifts more than Rs. 5,000/- up to Rs. 10,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 3 (three) months.
Gifts more than Rs. 10,000/- to Rs. 50,000/- : Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 6(six) months.
Gifts more than Rs. 50,000/- to Rs. 1, 00,000/- : Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 1 (one) year.
Gifts more than Rs. 1, 00,000/-: Removal for a period of more than 1 (one) year from Indian
Medical Register or State Medical Register.


b) Travel facilities: A medical practitioner shall not accept any travel facility inside the country or outside, including rail, road, air, ship, cruise tickets, paid vacations etc. from any pharmaceutical or allied healthcare industry or their representatives for self and family members for vacation or for attending conferences, seminars, workshops, CME programme etc. as a delegate.
 

Action: Expenses for travel facilities more than Rs. 1,000/- up to Rs. 5,000/-: Censure
Expenses for travel facilities more than Rs. 5,000/- up to Rs. 10,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 3 (three) months.
Expenses for travel facilities more than Rs. 10,000/- to Rs. 50,000/-: Removal from Indian Medical Register or State medical Register for 6 (six) months.
Expenses for travel facilities more than Rs. 50,000/- to Rs. 1, 00,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 1 (one) year.
Expenses for travel facilities more than Rs. 1, 00,000/-: Removal for a period of more than 1 (one) year from Indian Medical Register or State Medical Register.

c) Hospitality: A medical practitioner shall not accept individually any hospitality like hotel accommodation for self and family members under any pretext.

Action: Expenses for Hospitality more than Rs. 1,000/- up to Rs. 5,000/-: Censure
Expenses for Hospitality more than Rs. 5,000/- up to Rs. 10,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 3 (three) months.
Expenses for Hospitality more than Rs. 10,000/- to Rs. 50,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 6 (six) months.
Expenses for Hospitality more than more than Rs. 50,000/- to Rs. 1, 00,000/: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 1 (one) year.
Expenses for Hospitality more than Rs. 1, 00,000/-: Removal for a period of more than 1 (one) year from Indian Medical Register or State Medical Register.

d) Cash or monetary grants: A medical practitioner shall not receive any cash or monetary grants from any pharmaceutical and allied healthcare industry for individual purpose in individual capacity under any pretext. Funding for medical research, study etc. can only be received through approved institutions by modalities laid down by law/rules/guidelines adopted by such approved institutions, in a transparent manner. It shall always be fully disclosed.

Action: Cash or monetary grants more than Rs. 1,000/- up to Rs. 5,000/-: Censure
Cash or monetary grants more than Rs. 5,000/- up to Rs. 10,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 3 (three) months.
Cash or monetary grants more than Rs. 10,000/- to Rs. 50,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 6 (six) months.
Cash or monetary grants more than Rs. 50,000/- to Rs. 1, 00,000/-: Removal from Indian Medical Register or State Medical Register for 1 (one) year.
Cash or monetary grants more than Rs. 1, 00,000/-: Removal for a period of more than 1 (one) year from Indian Medical Register or State Medical Register.

e) Medical Research: A medical practitioner may carry out, participate in, work in research projects funded by pharmaceutical and allied healthcare industries. A medical practitioner is obliged to know that the fulfilment of the following items (i) to (vii) will be an imperative for undertaking any research assignment/ project funded by industry–for being proper and ethical. Thus, in accepting such a position a medical practitioner shall :-
(i) Ensure that the particular research proposal(s) has the due permission from the competent concerned authorities.
(ii) Ensure that such a research project(s) has the clearance of national/state/institutional ethics committees/bodies.
(iii) Ensure that it fulfils all the legal requirements prescribed for medical research.
(iv) Ensure that the source and amount of funding is publicly disclosed at the beginning itself.
(v) Ensure that proper care and facilities are provided to human volunteers, if they are necessary for the research project(s).
(vi) Ensure that undue animal experimentations are not done and when these are necessary they are done in a scientific and a humane way.
(vii) Ensure that while accepting such an assignment a medical practitioner shall have the freedom to publish the results of the research in the greater interest of the society by inserting such a clause in the MoU or any other documents/agreement for any such assignment.

Action: First time censure, and thereafter removal of name from Indian Medical Register or State Medical Register for a period depending upon the violation of the clause.

f) Maintaining Professional Autonomy: In dealing with pharmaceutical and allied healthcare industry a medical practitioner shall always ensure that there shall never be any compromise either with his/her own professional autonomy and/or with the autonomy and freedom of the medical institution.

Action: First time censure, and thereafter removal of name from Indian Medical Register or State Medical Register.



g) Affiliation: A medical practitioner may work for pharmaceutical and allied healthcare industries in advisory capacities, as consultants, as researchers, as treating doctors or in any other professional capacity. In doing so,

a medical practitioner shall always:—
i. Ensure that his professional integrity and freedom are maintained.
ii. Ensure that patients interest are not compromised in any way.
iii. Ensure that such affiliations are within the law.
iv. Ensure that such affiliations/employments are fully transparent and disclosed.
Action: First time censure, and thereafter removal of name from Indian Medical Register or State Medical Register for a period depending upon the violation of the clause.

h) Endorsement: A medical practitioner shall not endorse any drug or product of the industry publically. Any study conducted on the efficacy or otherwise of such products shall be presented to and/or through appropriate scientific bodies or published in appropriate scientific journals in a proper way.

Action: First time censure, and thereafter removal of name from Indian Medical Register or State Medical Register. 
Dr. Reena Nayyar, Secy. I/c.
(ADVT.-III/4/Exty./100/347)
 Foot Note : The Principal Regulations namely, "Indian Medical Council (Professional Conduct, Etiquette and Ethics) Regulations, 2002" were published in Part – III, Section (4) of the Gazette of India on the 6th April, 2002, and amended vide MCI notification dated 22/02/2003, 26/05/2004 & 10/12/2009





































































Thursday, 11 February 2016

Happy Rose Day to all ! Collection of Medical Rose Mnemonic for you ppl on this Rose day

Happy Rose Day to all
Collection of  Medical Rose Mnemonic for you ppl on this Rose day 

1. Rose sign - DVT.

2.Rose spot - typhoid.

3.Rose Waller test- rheumatoid factor.

4.Rose pink rash- erysipelas.

5.Rose thron ulcer- Crohn disease.

6.Rose Bengal stain- Sjogren syndrome( eye
examination).

7.Rose Bengal card test- brucella.

8.Rose garder's disease- sporothrix scheinki.

9.Rose position- adenoidectomy/ tonsillectomy.

10.Rosewater syndrome-a mild form of hereditary
X-
linked hypergonadotropic hypogonadism in males,
characterized by sterility and gynecomastia.

11.rose fever - hay fever caused by grass pollen or
rose pollen.

Wednesday, 10 February 2016

Hindi Top Jokes and Chutkule .................

sardar ki maa puttar tujhay yahan se
jalindhar janay mein 1 din laga aur
wapas aanay mein 3 din wo b naye car se
srdar : maa ye car bananay wale bhi
pagal hein janay k liay 4 gear
or aanay ke liay sirf 1 (revers) gear.... 


Sardar k truck k peechay likha tha "chota parivar sukhi parivar"
or uske nechay
tinu, minu, chintu, chinky, pinky, guddu, guddi, sonu, monu,
te sohan de papa di gaddi!

Banta dairy likh raha tha-
aaj meri behan ko baccha hone wala hai pata nahi ladka hoga ya ladki, isliye mujhe ye bhi pata nahi ki me
.
.
.
.
mama banunga ya mami"..... 

Jaalad to Santa:- Faansi se pehle, bata teri aakhri ichha kya hai???
.
.
.
.
Santa: Mere pair upar aur sir neeche kar ke faansi de do!!! Santa Rocks.....Jaalad Shocks..!  

Masterji: kal school kyu nahi aaya.
Santa: Gir gaya tha or lag gayi.
Masterji: kahan gire, kahan lagi?
Santa: Takiye pe gira tha aur AANKH lag gayi

Santa : Football Male Hai Ya Female ??
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
Banta : Aareeee Jiske Piche 11+11=22 Ladke Bhag Rahe Ho,
Vo Female Hi Hogi Na.



Santa to Jeeto, "The baby's swallowed a pin".
Jeeto: Don't worry, it's a safety pin!

1 srdar bullet chala rha tha, very funny sms
sardar activa vali se: kbi bullet chalai hai?
Ldki tez krke aage nikl gai.
Srdar barabr me aakr... kbi bullet chalai h?
Ldki slow ho gai
Aage jakr sardar ka accidnt ho gya.
Ldki: or chala le bullet.
Srdar: kameeni, yhi to puch rha tha, chlai h to bta de break kaise lagte hain.

Santa Bank me paise jama karane gaya.
Cashier- Tumhare Note nakli hai.
Santa- Tujhe kya farak padata hai?
Jama to Mere Account me ho rahe hai na..!!  

Santa: "Madam these undergarments will look nice on U"  
Girl : How can U be so sure?
Santa: I have done diploma in interior designing

Girlfriend- Apke bina mera ZEE nahi lagta..
.
Santa- ZEE nahi lagta to isme kya hai pagal...
.
SONY ya STAR PLUS laga lo wo bhi achhe channel hai.

Recent railway budget's effect on santa:
Santa: berth bhi confirm ho gya, 4 station bhi gujar gye...
Wife kab milegi TT sahab.. ??
TT: " ghochu! Wife nahi, train mein Wi-Fi dene ko kaha gya hai.

Pati Office Se Aaya Hi Tha
Ki Patni Ne Hukam Diya
Mere Maayke Se Bahut Log Aaye Hue Hai ,
Bazaar Jao Aur Unke Liye Kuch Lao.
Pati Turant Bahar Chla Gya Aur
10 Minute Baad Aakar Bola,
Mai Aap Logo Ke Liye Auto Le Aaya Hun.
Aap Log Chaliye Yahan Se.

हाँ हमको मोहब्बत है, मोहब्बत है, मोहब्बत है अपने मोटापेसे हमको मोहब्बत है।

मैं और मेरा मोटापा अक्सर ये बातें करते हैं
तुम न होते तो कैसा होता

मैं साइज़ ज़ीरो कहलाता, मैं टूथपिक जैसे दिखता
मैं आइसक्रीम देखकर हैरान होता
मैं मोटों को देखकर कितना हसता
तुम न होते तो ऐसा होता, तुम न होते तो वैसा होता
मैं और मेरा मोटापा अक्सर ये बातें करते हैं


ये रबड़ी है या चाँदनी ज़मीन पर उतरी हुई है
है गुलाबजामुन या पेट को खेलने के लिए गोलियाँ मिली है
ये पास्ता है या मेरी रसना की चाहत
पिझ्झा है या चाँद का दर्शन

हवा का झोंका है, या भजीयों के तलने की महक
यह आलू वेफर्स की है सरसराहट, की तुमने चुपके से कुछ कहा है
यह सोचता हूँ मैं कबसे गुमसुम
जबकी मुझको भी यह खबर है
की तुम यहीं हो, यहीं कहीं हो
मगर यह दिल है की कह रहा है
की तुम नहीं हो, यहाँ नहीं हो।



मजबूर यह हालत मन में भी है तन में भी
डाएटिंग की एक रात इधर भी है उधर भी
करने को बहुत कुछ है मगर कैसे करें हम
कब तक यूहीं भूखे और वर्कआउट करते रहे हम
दिल कहता है दुनिया की हर एक मीठी चीज़ चख ले
दीवार जो हम दोनों में है आज गिरा दें
क्यूँ दिल में सुलगते रहें, लोगो को बता दें
हाँ हमको मोहब्बत है, मोहब्बत है, मोहब्बत है
अपने मोटापेसे हमको मोहब्बत है।

Sunday, 7 February 2016

कभी माँ को भी मायका सा लगने दो

कभी माँ को भी मायका सा लगने दो


ठीक है, ये उसका घर है। उसी का घर है।

लेकिन
फिर भी कभी माँ को ये घर, मायका सा लगने दो।।



जागने दो कभी उसे भी देर से
नल आने का समय हो या बाई छुट्टी पर हो।
छोटी छोटी समस्याओं से उसे भी कभी मुक्ति दो।
कभी माँ को भी ये घर, मायका सा लगने दो।।


आज बना लेने दो उसको सब्जी पसंद की अपनी।
अधिक नहीं, बस थोड़ी सी, मदत करो तुम उसकी।।

उसकी पसंद और नापसंद पर ध्यान ज़रा तुम दो।
कभी माँ को भी ये घर, मायका सा लगने दो।


कभी सुबह उसके लिए तुम चाय बना लो।
पास बैठ कर अपने मन की बात कभी कह लो।
कभी उसकी बातें भी ध्यान से सुन लो। 
अपना बड़प्पन उसे भी कभी महसूस होने दो।
कभी माँ को भी ये घर, मायका सा लगने दो।।



माँ को भी कभी आराम करने दो।
जिन हाँथों ने प्यार से तुम्हें पाला,
कभी उन्हीं हाँथों पर, अपना हाँथ रख दो।

कभी माँ को भी ये घर, मायका सा लगने दो।।




एक भेलपूरी वाले का मेनू . . . .

एक भेलपूरी वाले का मेनू . . . .

1) भेलपूरी १०रू

2) स्पेशल भेलपूरी १२ रू

3) वेरी स्पेशल भेलपूरी १५ रु

4) एक्स्ट्रा स्पेशल भेलपूरी १६ रु

5) डबल एक्स्ट्रा स्पेशल भेलपूरी २० रु

6) संडे स्पेशल भेलपूरी २५ रु
(सिर्फ रविवार)

भेलपूरी के अलग-अलग टेस्ट चखने के लिए मैं रोज एक अलग भेलपूरी
खाने लगा. . . . .

पर जल्द ही मुझे पता चला कि हर एक भलपूरी का एक ही टेस्ट है
आखिरकार एक दिन मैंने उससे इस का कारण पूछा: हर एक भेल
की एक सा टेस्ट है?

भेलवाला: भेलपूरी मतलब भेलपूरी. . . . सिर्फ १० रु.

स्पेशल भेलपूरी मतलब चम्मच धोया हुआ...

वेरी स्पेशल भेलपूरी मतलब चम्मच और प्लेट, दोनों ही धोये हुंए...

एक्सट्रा स्पेशल भेलपूरी मतलब भेल देने से पहले हाथ धोये हुए...

डबल एक्सट्रा स्पेशल भेलपूरी मतलब पीने का साफ पानी अलग
से दिया जाता है ...

इतना बोलकर वह चुप हो गया।

मैं: फिर संडे स्पेशल मतलब क्या?
भेलवाला: संडे को मैं नहाता हूँ...  

Saturday, 6 February 2016

Jokes ............ वेलेनटाईन डे के दिन पति बीवी के लिये सफेद गुलाब लाया ....

 वो कोनसे 6 बच्चे है जो खुद भी सारा दिन
आवारागर्दी करते है ओर न खुद पढ़ते है न दुसरो
बच्चों को पढ़ने देते है,,,???


नोबिता, शिज़ुका, जियान, छोटा भीम, शिंग चैन ओर वो
कमीना डोरेमोन
.

.
.
.
.
बंता : यार ये रामदेव बाबा वाला नूडल्स खरीदा है, इनको खाना कैसे है ?


संता : एक नाक बंद करके दूसरी नाक से अंदर खींचना हैं ?
.

.
.
.
Frustrated Husband : Seriously I think that my wife is a distant cousin of Nathuram Godse.
Friend: Why do you think so..??
Frustrated Husband: She has been systematically eliminating all Gandhis from my wallet....!!!
.

.
.
.
टीचर --1 अक्टूबर 2 अक्टूबर ओर 15 अक्टूबर को क्या हुआ था जिसे हर साल याद करके उत्सव के रूप में मनाया जाता हे
विद्यार्थी --सर 1अक्टूबर को गांधी जी की माँ को भर्ती किया गया था

2अक्टूबर को गांधी जी का जन्म हुआ था जिससे हम 2 अक्टूबर को ग़ांधी जयंती मानते हे
टीचर ... ओर 15 अक्टूबर क्या हुआ था
विद्यार्थी-15 अक्टूबर को गांधी जी का कुआं पूजन था ।।। 
टीचर आज तक कोमा में हे ......
.
.
.
.
.
एक से बढ़कर एक चुटकुले पूरी पढ़े
आज का ज्ञान……
चाय में गिरी हुई
बिस्किट को
दुसरी बिस्किट से
निकालनें की कोशिश ना करें...!

वरना …
जो हाथ मे है
उससे भी हाथ धो बैठोगे !! 

वेसे ही
आपकी एक बीबी है
उसी से खुश रहे ..

दूसरी के चक्कर मे ना पड़े..
नही तो
पहली से भी हाथ धोना पड़ सकता है !

ज्ञान समाप्त
.
[

: प्रश्न - बीबीयां जब घर में बर्तन मांजती हैं तो बहुत आवाज होता है मगर पतियों के बर्तन मांजने पे कम ऐसा क्यूं ?
जवाब - बीबियां घर में बताती हैं वे बहुत काम कर रहे  मगर पति चाहते हैं कि उनके बर्तन मांजने की बात किसी को पता न चले
[

 दामाद अपनी सास से बात करता हैं :
 आपकी बेटी में तो हज़ारों कमियाँ हैं ।

सास : हाँ बेटा , इसी वजह से तो उसे अच्छा लड़का नही मिला.
.

Solid Insult....!!!
.
[

दुनिया वाले पूछते हैं :
अधूरे सपने पूरे करने के लिए
क्या करना चाहिए ?
.
.
.

.
हमारा जवाब है: दोबारा सो जाना चाहिए .
.

एक शराबी छत पे से नीचे गिर
गया.
सब लोग आए और पूछने लगे के
क्या हुआ??
शराबी - " पता नही भाई..... मे
भी जस्ट अभी नीचे आया हूं "

Cheers .
.
.
.
संता बंता के घर गया
वहां 'बंता की बीवी को देख कर
बोला...
संता:-
"तेरी और
भाभी की जोड़ी तो 'राम-
सीता की जोड़ी है।
बंता:-
"कहाँ यार...
ना तो ये धरती में 'समाती है
और
ना ही इसे कौई 'रावण ले जाता है 

-----------------------------------------
एक गुजराती बादाम बेच रहा था
सरदार ने पूछा ये खाने से क्या होता है ?
गुजराती : दिमाग़ तेज़ होता है ..
सरदार : केसे ?
गुजराती : अच्छा ये बताओ 1 किलो चावल में कितने दाने होते है
सरदार : पता नही ...

गुजराती ने उसको बादाम खिलाया और बोला ,
बताओ 1 दर्जन में कितने केले होते है ?
सरदार : 12
गुजराती : देखा दिमाग तेज़ हो गया ना
सरदार : 2 किलो दे यार , कमाल की chige hai.
 

----------###--------------------------
इंजीनिरिंग का फार्म भरते हुए छात्र ने पास खड़े चौकीदार से पूंछा ......... कैसा है ये कोलेज ???
चौकीदार :- बहुत बढ़िया है, हमने भी यहीं से इन्जिनारिंग की है.
 

------------------------------------
- कल जो मैंने एक बच्चे से पूछा:
पढ़ाई कैसी चल रही है?
उसका जवाब आया
अंकल,
समंदर जितना सिलेबस है;
नदी जितना पढ़ पाते हैं;
बाल्टी जितना याद होता है;
गिलास भर लिख पाते हैं;
चुल्लू भर नंबर आते हैं;
उसी में डूब कर मर जाते हैं।
 

__------------------------------------
सलमान खान लडकी देखने गया।
उसे देखके लडकी की माँ बेहोश हो गयी।
होश आया तो किसीने पूछा – "क्या हुआ"?
माँ बोली - "२4 साल पहले ये लडका मुझे भी देखने आया था।" 
------------------####------------
शादी के 5 साल बाद , वेलेनटाईन डे के दिन पति बीवी के लिये सफेद गुलाब लाया ....

बीवी :-- ये क्या सफेद गुलाब ? वेलेनटाईन डे के दिन तो रेड रोज देते है ना ??...
पति :-- अब जिन्दगी में , प्यार से ज्यादा शांति की
जरूरत है !!!!! 

---------------------------------
पति --अपने मैरिज सर्टिफिकेट को एक घंटे से देख रहा था
बीबी :- तुम 1 घंटे से क्या देख रहे हो ??
पती :- expiry date ढूंढ रहा था !! सालो ने लिखी ही नही 























































Jokes .............. This joke won an award for the Best Joke in a competition held in Britain

 Ad given by a famous restaurant at Mumbai - This Valentine day bring your wife, get 25 % discount on food... Bring your girl friend, get 35 % discount, Bring your lover and get 40 % discount ..... If you can bring all 3 at same time, entire bill & one month complimentary stay at LILAVATI HOSPITAL will be paid by management. .
.
.
.
.
आदमी :- कमर में बहुत दर्द है... जरा पड़ोसी
के घर से iodex ले आओ।
.
.
Wife:- वो नहीं देंगे । वो बहुत कंजूस है।
आदमी:- हाँ, है तो बहुत कंजूस साले... रहने दो,
अलमारी में से अपनी ही निकाल लो, आज दर्द कुछ ज्यादा ही है...
.
.
.
.
.
बीवियाँ दुनिया का एकलौता ऐसा आतंकी संगठन होता है
जो अपने द्वारा किये गये हमलों की जिम्मेदारी भी नहीं उठाता। .
.
.
.
.
.
PASSWORD PROBLEMS:

WINDOWS: Please enter your new password.

USER: cabbage


WINDOWS: Sorry, the password must be more than 8 characters.

USER: boiled cabbage


WINDOWS: Sorry, the password must contain 1 numerical character.

USER: 1 boiled cabbage



WINDOWS: Sorry, the password cannot have blank spaces.

USER: 50bloodyboiledcabbages


WINDOWS: Sorry, the password must contain at least one uppercase character.

USER: 50BLOODYboiledcabbages



WINDOWS: Sorry, the password cannot use more than one uppercase character consecutively.

USER: 50BloodyBoiledCabbagesYouStupidIdiotGiveMeAccessNow!



WINDOWS: Sorry, the password cannot contain punctuation.

USER : IWillHuntYouDown50BloodyBoiledCabbagesYouStupidIdiotGiveMeAccessNow


WINDOWS: Sorry, that password is already in use.
(This joke won an award for the Best Joke in a competition held in Britain)
.

.
.
.
 Ladies driving:  
Doctor to injured patient:
Jab car ek lady chalaa rahi thi to tumhein road se dur chalnaa chaahiye tha naa ??
.
.
.
.
.
Patient:
Kaun sa road?
Main to Garden mein letaa huaa tha !! .

.
.
.
A man meets his friend 
who has started wearing ear rings.
He asks "Since when did u start wearing earrings?"
Friend
"Ever since my wife
found them in my car !!!.

.
.
.
 Some women are sooo concerned about their husband's happiness. ......
that they hire detectives to find out who is responsible for it....
.

.
.


The only 2 persons whom a woman listens carefully & follows Sincerely & does EXACTLY as he says is a.... TAILOR & PHOTOGRAPHER. baki to woh kisi k baap ki bhi nahi sunti....

.
.
.
.

Police asked the Thief: Why did u go to Steal 3 times in d Same Store?
The thief Replied:Sir, I Stole 1 Dress for my wife & went to Change It Twice!
.

.
.

A husband writing in his diary:
Shaadi se pehle bhagwaan se duaa maangi thi ki achha
PAKANE wali biwi dena.

Saala, 'khana' mention karna hi bhool gaya! 
















Hindi Jokes

 शोहर रोज अपनी नाराज बिवी के घर फोन करता,
 सास: कितनी बार कहा है वह तुम्हारे लिए मर गयी है, रोज रोज क्यूं फोन करते हो?





 शोहर: सून कर अच्छा लगता है-
.

.
.
.
.
New joke in political circles...
ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा दर्द
दिल टूटने पर नहीं,
'महबूबा' के रूठने पर होता है : BJP .

.
.
.
.
माना कि
लडके के घरवालो का लड़की के घरवालो से दहेज़ मांगना एक पाप है।

.
पर
.
लड़कीवालो को हमेशा
सिर्फ सरकारी नौकरी या लाखो के पैकेज वाला लड़का ही क्यों चाहिए..??
.
इसमें कौन सा पुण्य मिल रहा है। !
.
अखिल भारतीय बारहवी अनुत्तीर्ण एवं सप्लीमेंट्री संघ
.

.
.
.
.
 कुछ सूंदर लड़कियो के साथ उनके अजीबो गरीब boy freind देख कर ऐसा लगता है..
जैसे..
.
.
बेचारी ने उपवास में गलती से कुछ खा लिया होगा.!!

.
.
.
.
डॉक्टर ने मरीज़ की जांच करने के बाद कहा
आपके कोई पुरानी बीमारी है
जो आपके शरीर को धीरे धीरे खा रही है
 

मरीज़ – डॉक्टर साहब ! थोड़ा धीरे बोलियें वो🏻 बाहर ही बैठी है |.
.
.
.
.
सभी महिला मित्रों से अनुरोध👉
कृपया 15 फरवरी तक अपने पतियो पर विशेष नजर रखे।
नही तो
"नजर हटी सौतन सटी"

जनहित मे जारी













Friday, 5 February 2016

Hindi Jokes & Chutkule

 प्रोफेसर:- तुम यहां काॅलेज कैंपस...
में इस तरह दारु नहीं...
पी सकते...
:
:
:
छात्र:- मैं दलित हूं।
:
प्रोफेसर:- माफ कीजिएगा सर..
नमकीन भी भिजवाऊं..
क्या?
.

.
.
.
सीता से प्यार किया तो राम बन गये
राधा से प्यार किया तो श्याम बन गये
 जबरदस्ती प्यार किया तो आशाराम.......
.

.
.
.
 शराबियों की दावत!
एक शराबी ने दोस्तों की दावत
का प्रोग्राम बनाया, और अपने
ही घर से रात को बकरा चोरी किया।
रात को अपने दोस्तों के साथ खूब
दावत का मजा लिया और सुबह जब घर
पहुंचा तो बकरा घर में ही था।
यह देख उसने बीवी से पूछा, "ये
बकरा कहाँ से आया?"
बीवी बोली, "बकरे को मारो गोली,
ये बताओ रात को तुम चोरों की तरह
कुत्ते को कहाँ ले गए थे?".

.
.
.
.
लखनवी बच्चों की लड़ाई हो रही थी।
पहला:
देखिए अगर आप हमारी बात से इत्तेफ़ाक़ नहीं करेंगे तो हम आपकी वालिदा मोहतरमा की शान में गुस्ताख़ कलिमात पेश करेंगे।

दूसरा:
हज़ूर अगर आपने इस क़दर जलालत की जुर्रत की तो फ़िर हम भी आपके रुखसार मुबारक पे ऐसा तमाचा रसीद करेंगे कि गाल-ए-मुबारक बन्दर की तशरीफ़ की मानिंद सुर्ख हो उठेगा।

इसे कहते हैं तहजीब !!
.

.
.
.
मरीज: डॉक्टर साहब कब्ज़ होने की गोली दीजिये।
डॉक्टर: क्यों?
मरीज: डॉक्टर साहब दाल खायी है और इतनी महंगी दाल खाके निकालने का मन नही कर रहा।
डॉक्टर: रूक टाँके ही लगा देता हूँ।







वेलेंटाइन डे

वेलेंटाइन डे आते ही छोटू की आँखों में एकख़ुशी की लहर दौड़
जाती थी ! मंदिर के साइड से लगे दुकान पे
काम करने वाला छोटू
हर बार की तरह इस बार भी खूब सारे
गुलाब की पंखुड़िया खरीद
लाया था ! छोटू को ये
नहीं पता था की वेलेंटाइन डे
होता क्या है ? पर ये जरूर पता था उसे
कि आज दस का बिकने
वाला गुलाब पच्चास में बेचेगा ! वह सुबह से
दौड़ भाग में
लगा था इस उम्मीद में कि आज
अच्छी कमाई कर
लेगा वो..दो तीन घंटे में उसके सारे गुलाब बिक
गए ! उसने
जल्दी से पैसो का गुना भाग करके पाँच
सौ अलग निकल
लिया !

अब फुर्ती से भागकर सेठ के पास
पंहुचा उसकी उधारी चुकाई !
और दनदनाता हुआ बाजार पहुंच गया हीरामन
के
दुकान पे..
"अरे छोटू आज बड़ी जल्दी आ गया रे तू
तो ..?
हा चच्चा आज चौदह फरवरी है न
अरे हाँ में तो भूल ही गया था ..
"बता क्या चाहिए ?
वो हरी वाली फ्रॉक तो दिखाना चच्चा ,
छोटू ने
चहकते हुए कहा
"महंगी है नहीं ले पायेगा
कित्ते कि है ?

"पुरे चार सौ अस्सी कि बोल पैक कर दू क्या.?
छोटू ने कुछ देर सोचते हुए कहा ..
ठीक है चच्चा कर दो पैक..
पाँच सौ में चार सौ अस्सी गया बचा बीस..
अच्छा बीस कि डेरी मिल्क
भी पैक कर दियो चच्चा..
"ये ले कहते हुए चच्चा ने उसे पैकेट थम दिया..
छोटू फुदकते हुए घर पंहुचा माँ से
पूछा "छोटी कहा है..?
यही कही खेल
रही होगी..?

छोटू ने उसे जल्दी से ढूढ़ा और जादू
कि झप्पी देते हुए बोला
"यिप्पी वेलेंटाइन डे छोटी "
सोच सोच का फरक है प्यार तो प्यार ही होता है