Popads

Wednesday, 26 August 2015

-हास्य कविता-

 एक बार एक मास्टर साहब अपनी क्लास के बच्चो से पूछने लगे-:
बच्चो को जिस तरह 20 - 20 क्रिकेट आने से क्रिकेट देखने का मजा बढ़ गया , उसी तरह तुम्हारे पेपर लेने का तरीका किस तरह से रोमांचक बनाया जा सकता है ?
,
,
,

जब कोई नहीँ बोला तो हमारा एडमिन इस सवाल का जवाब देने के लिए खड़ा हो गया ।
मास्टर जी उसके खुराफाती दिमाग को जानते थे ।
आंखें तरेरी पर फिर बोले - जल्दी से बता ।
एडमिन गम्भीर हो बोला -
.
मास्टरजी हमारा पेपर एक घंटा 20 मिनट का होना चाहिए,
.
हर बीस मिनट के बाद छात्रों को आपस मेँ बात करने के लिए के लिए दो मिनट का
"टाईम आफ़ "
मिलना चाहिए ।
.
बच्चों को एक
" free hit"
मिलनी चाहिए , जिसमेँ बच्चे किसी भी एक सवाल का अपनी मर्जी से उत्तर लिख सकेँ।
.
पहले 20 मिनट मेँ
"पावर प्ले "
होना चाहिए जिसमे ड्यूटी वाला मास्टर कमरे से बाहर रहे
.
LAST
BUT NOT LEAST....
और हर एक सही उत्तर लिखने पर
"चीयर लीडर "
आकर कमरे मेँ डान्स करेँ !!!! हमारे एडमिन की जय उसकी सोच की जय
.
.
.
.
पति: आज ४ बजे कुतों की रेस है, मुझे वहां जाना है।
पत्नि: आप भी ना हद करते हो, ठीक से चला जाता नही और रेस लगाने की पडी है।
.
.
.
.
Found an awesome message  
गुमान ना कर अपने दिमाग पर ऐ दोस्त...
,
,
जितना तेरे पास है.. उतना तो मेरा खराब रहता है....
.
.
.

 -हास्य कविता- 


मुश्किल है अपना मेल प्रिये,
----ये प्यार नहीं है खेल प्रिये,

तुम एम.ए. फर्स्ट डिवीजन हो,
----मैं हुआ मैट्रिक फेल प्रिये,

तुम फौजी अफसर की बेटी,
----मैं तो किसान का बेटा हूँ,

तुम रबड़ी खीर मलाई हो,
----मैं तो सत्तू सपरेटा हूँ,

तुम ए.सी. घर में रहती हो,
----मैं पेड़ के नीचे लेटा हूँ,

तुम नई मारूति लगती हो
----मैं स्कूटर लेम्ब्रेटा हूँ,

इस तरह अगर हम छुप छुप,
-----कर आपस में प्यार बढाएंगे,

तो एक रोज़ तेरे डैडी
----अमरीश पुरी बन जाएंगे,
सब हड्डी पसली तोड़,
----मुझे भिजवा देंगे वो जेल प्रिये,

मुश्किल है अपना मेल प्रिये,
----ये प्यार नहीं है खेल प्रिये,
तुम अरब देश की घोड़ी हो,
----मैं हूँ गदहे की नाल प्रिये,

तुम दीवाली का बोनस हो,
----मैं भूखों की हड़ताल प्रिये,

तुम हीरे जड़ी तश्तरी हो,
----मैं एल्युमिनियम का थाल प्रिये,

तुम चिकन, सूप, बिरयानी हो,
----मैं कंकड़ वाली दाल प्रिये,

तुम हिरन चौकड़ी भरती हो,
----मैं हूँ कछुए की चाल प्रिये,

तुम चन्दन वन की लकड़ी हो,
----मैं हूँ बबूल की छाल प्रिये,
मैं पके आम सा लटका हूँ,
----मत मारो मुझे गुलेल प्रिये,

मुश्किल है अपना मेल प्रिये,
----ये प्यार नहीं है खेल प्रिये,
मैं शनिदेव जैसा कुरूप,
----तुम कोमल कंचन काया हो,

मैं तन से, मन से कंगला हूँ,
----तुम महाचंचला माया हो,

तुम निर्मल पावन गंगा हो,
----मैं जलता हुआ पतंगा हूँ,

तुम राजघाट का शान्ति मार्च,
----मैं हिन्दू-मुस्लिम दंगा हूँ,

तुम हो पूनम का ताजमहल,
----मैं काली गुफा अजन्ता की,

तुम हो वरदान विधाता का,
----मैं गलती हूँ भगवन्ता की,
तुम जेट विमान की शोभा हो,
----मैं बस की ठेलमपेल प्रिये,

मुश्किल है अपना मेल प्रिये,
----ये प्यार नहीं है खेल प्रिये,
तुम नई विदेशी मिक्सी हो,
----मैं पत्थर का सिलबट्टा हूँ,

तुम ए.के. सैंतालिस जैसी,
----मैं तो इक देसी कट्टा हूँ,

तुम चतुर राबड़ी देवी सी,
----मैं भोला-भाला लालू हूँ,

तुम मुक्त शेरनी जंगल की,
----मैं चिड़ियाघर का भालू हूँ,

तुम व्यस्त सोनिया गाँधी सी,
----मैं अडवाणी सा खाली हूँ,

तुम हँसी माधुरी दीक्षित की,
----मैं पुलिसमैन की गाली हूँ,
गर जेल मुझे हो जाए तो,
----दिलवा देना तुम बेल प्रिये,

मुश्किल है अपना मेल प्रिये,
----ये प्यार नहीं है खेल प्रिये,
मैं ढाबे के ढांचे जैसा,
----तुम पाँच सितारा होटल हो ,

तुम चित्रहार का मधुर गीत,
----मैं कृषि दर्शन की झाड़ी हूँ,

तुम विश्व सुंदरी सी महान,
----मैं ठेलिया छाप कबाड़ी हूँ,

तुम सोनी का मोबाइल हो,
----मैं टेलीफोन वाला चोंगा,

तुम मछली मानसरोवर की,
----मैं सागर तट का हूँ घोंघा,
दस मंजिल से गिर जाऊँगा,
----मत आगे मुझे ढकेल प्रिये,

मुश्किल है अपना मेल प्रिये,
----ये प्यार नहीं है खेल प्रिये,
तुम जयाप्रदा की साड़ी हो,
----मैं शेखर वाली दाढी हूँ,

तुम सुषमा जैसी विदुषी हो,
----मैं लल्लू लाल अनाड़ी हूँ,

तुम जया जेटली सी कोमल,
----मैं सिंह मुलायम सा कठोर,

तुम हेमा मालिनी सी सुन्दर,
----मैं बंगारू की तरह बोर,

तुम सत्ता की महारानी हो,
----मैं विपक्ष की लाचारी हूँ,

तुम हो ममता जयललिता सी,
----मैं क्वाँरा अटल बिहारी हूँ,
तुम संसद की सुन्दरता हो,
----मैं हूँ तिहाड़ की जेल प्रिये,

मुश्किल है अपना मेल प्रिये,
----ये प्यार नहीं है खेल प्रिये ।


वाकई
बहुत ही मुश्किल है,
               अपना मेल प्रिये..!

 !हँसते रहें,
            हँसाते रहें..! 

हिंदी चुटकुले ........बहुत सारी औरतें आपस में बात करती हैं फिर भी..

हिंदी चुटकुले ........बहुत सारी औरतें आपस में बात करती हैं फिर भी.. 



ज़रुरत से ज़्यादा भगवान को याद मत किया करो क्योंकि...
किसी दिन भगवान ने याद कर लिया तो..??
लेने के देने पड़ जायेंगे ।
.
.
.
.

"काम ऐसे करो कि लोग आपको....
.
.
किसी दूसरे काम के लिए बोलें ही नहीं"
.
.
.
.

आज के जमाने में सत्संग उसी संत का बढ़िया रहता है, जिसके पंडाल में गर्म पोहा, समोसा जलेबी और अदरक वाली चाय मिले।
वरना ज्ञान तो अब ऑनलाइन उपलब्ध है ।
.
.

जिस पुरुष ने आज के समय में बीवी, नौकरी और स्मार्टफोन के बीच में सामंजस्य बैठा लिया हो,
वह पुरुष नहीं महापुरुष कहलाता है ।
.
.
.

आज सबसे बड़ी कुर्बानी वह होती है,
जब हम अपना फोन चार्जिंग से निकाल कर किसी और का फोन लगा दें ।
.
.
.

आप कितने ही अच्छे काम कर लें, लेकिन लोग उसे ही याद करते हैं,
जो उधार लेकर मरा हो ।
.
.
.

आजकल माता-पिता को बस दो ही चिंताएं हैं...
इंटरनेट पर उनका बेटा क्या डाउनलोड कर रहा है....
और...
बेटी क्या अपलोड कर रही है ।
.
.
.

जंगल में चरने गया बैल, दोस्तों के साथ पार्टी में बैठा पुरुष और ब्यूटी पार्लर में गयी महिला..
जल्दी वापस नहीं आते ।।
.
.
.

जब आप किसी चीज को पूरी शिद्दत से पाने की ख्वाहिश या कोशिश करते हैं, तो वह चीज
.
.
.
.
उसी शिद्दत से कुछ ज्यादा ही एटीट्यूड दिखाने लगती है।।
.
.
.

एक बेवकूफ पति अपनी पत्नी से कहता है
कि कभी कभी चुप भी रहा करो ।       
मगर एक बुद्धिमान पति कहता है कि
तुम्हारे लब जब खामोश रहते हैं तो चेहरा बेहद हसीन लगता है
.
.
.
.

आदमी अपने घर में सिर्फ दो ही कारणों से खुश होता है:
जब बीवी " नई " हो
  या
बीवी " नहीं " हो
.
.
.

What's app का सबसे बड़ा फायदा क्या है ??
बहुत सारी औरतें आपस में बात करती हैं फिर भी आवाज़ ही नहीं होती
.
.
.

इतना तो बगुला भी मछली पकड़ने के लिये चोच नहीं निकालता होगा
.
.
.
.
.
.
जितना
.
.
.
.
.
.
लड़किया आजकल सेल्फी लेने के समय होठ निकालती है
.
.
.

जीवन में कम से कम एक सच्चा मित्र हमेशा अपने पास रखो
ताकि.....
.
.
.
.
जिस दिन आपके यहाँ तुरई, करेला या कुंदरू की सब्जी बने उस दिन उसके घर जाकर खाना खा सको...।
          ज्ञान समाप्त            
हरी ओम

हिंदी मजेदार गुदगुदाते चुटकुले ............एक प्यार भरी , पति-पत्नी की हंसमुखी लव स्टोरी

हिंदी मजेदार गुदगुदाते चुटकुले.......एक प्यार भरी , पति-पत्नी की हंसमुखी लव स्टोरी 


धूप पड़ी जब हीर पर, पिघल गया शृंगार।
.
.
.
.
.
रांझा उसको छोड़कर, भाग गया हरिद्वार ..
.
.
.
.
 जो लोग गाड़ी का पेट्रोल-टैंक फुल भरवा के खुद को
अमीर समझ रहे हैं,
.
.
.
.
.
.
उन्हें बता दूं क़ि मैंने अभी-अभी प्याज के
परांठे खाये हैं।
.
.
.
जब कन्या अपने,पिता के घर होती है,”रानी “रहती है.

पहली बार ससुराल जाती है,”ल्क्ष्मी”,बनकर जाती है.

और ससुराल मे काम कऱते-करते “बाई” बन जाती है,

इस तरह लडकीया “रानी-लक्ष्मी-बाई” बन जाती है…!!!
और फिर तलवार के बिना ही पति को अंग्रेज समज लेती है

और फिर वो पति, अंग्रेज न हो कर भी “अंग्रेजी”  लेना शुरू कर देते हैं
.
.
.
.
लड़का- अंकल मैं आपकी लड़की से शादी करना चाहता हूं।
बाप- करते क्या हो?
लड़का- जी, खेती।
बाप- इस ज़माने में खेती? भाग! यह शादी नहीं हो सकती...
लड़का- अंकल...'प्याज' की खेती करता हूं।
बाप- दामादजी तो अगले महीने की 2 तारीख कैसी रहेगी?
.
.
.
.
दो लड़कियां एक शॉप पर जाती हैं
और दो राखी लेकर दो लड़कों के बाँध
देती हैं..
...
.
.
(पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त )..
.
.
.
दोनों लडके एक दूसरे की तरफ़ देख कर
कहते हैं, .
कोई बात नही..तू मेरी वाली से शादी कर ले,
मैं तेरी वाली से कर लेता हूँ..!
moral : rakhi k din apane dost ko jarur sath rakhe.....
hote h kamine par kaam bhi wohi aate he.
.
.
.
.
अमिताभ बच्चन: मैं हूँ DON 
शाहरूख़ खान: मैं हूँ DON
दाउद इब्राहीम: मतलब मैं रामु काका...
.
.
.
एक प्यार भरी , पति-पत्नी
की हंसमुखी लव स्टोरी :-
पत्नी : अगर मैं , अचानक मर गई तो , तुम क्या
दूसरी शादी करोगे ?
पति : नो डार्लिंग, ऐसा तो मैं सोच भी नहीं
सकता !!!
पत्नी : क्यों, नहीं क्यों ? अरे आपके
अच्छे बुरे पलों को बांटने के लिए कोई तो साथी चाहिए
न !!!
प्लीज , शादी कर लेना डार्लिंग !!!
पति : ओह माय डिअर .. मरने के बाद की
भी मेरी इतनी फ़िक्र???
पत्नी : तो प्रोमिस ? आप दूसरी
शादी कर लोगे ना ?
पति : ओके बाबा, लेकिन ये सिर्फ तुम्हारी खातिर
करूँगा !!!
पत्नी : तुम अपनी नई पत्नी
को इस घर में रखोगे ना ?
पति : हाँ, लेकिन उसे तुम्हारा कमरा कभी यूज़
नहीं करने दूंगा।
पत्नी : तुम उसे मेरा नया सैमसंग का मोबाइल
भी दे दोगे न ?
पति : हाँ , लेकिन फेसबुक और व्हाट्सएप इनस्टॉल
नहीं करूँगा !
पत्नी : उसे अपनी नयी कार
चलाने दोगे ?
पति : नो, नेवर,,, उस कार को तो तुम्हारी यादगार बना के
रखूंगा। उसको दूसरी कार दिला दूंगा !!!
पत्नी : और मेरे ज़ेवर ...?
पति : वो उसे कैसे दे सकता हूँ। उनसे तुम्हारी यादें
जुड़ीं होंगी। वो अपने लिए नई
ज्वेलरी मांगेगी ना !!!
पत्नी : वो मेरी मुलायम वाली
चप्पलें पहनेगी तो ?
पति : नहीं जानू । उसका नंबर 7 है और तुम्हारा 9 !!!
चुप्पी छा गई... तूफान के पहले का सन्नाटा !!!
पति : ओ शिट...
. . . । 
.
.
.
एक लकडहारा जंगल मे लडकी काट रहा था
कि
तभी
.
.
वहाँ CID आई और उसको पकड लिया
" आप " सोच रहे होंगे कि उस लकडहारे को लकड़ी काटने पर क्यों पकड लिया ???
तो भाई , सावन के अंधे तो हो नहीं , फिर भी , " लड़की " को लकड़ी पढ़ रहे हो ??
जरा ऊपर जाकर ठीक से पढ़िए क्या लिखा है ?

अब खुद ही हँसते रहोगे या आगे भी हसाओगे
.
.
.
.
Husband : व्रत है ??
Wife : हाँ जी
Husband : कुछ खाया ?
Wife : हाँ जी
Husband : क्या ?
Wife : केला,सेव,अनार ,मूंगफली, फ्रूट क्रीम, आलू
की
टिक्की, साबूदाने की खीर, साबूदाने के पापड़,
कुट्टू की पूरी,
सावंख के चावल, सिंघाड़े का आटे का हलवा,
खीरा, सुबह-सुबह
चाय और अब जूस पी रही हूँ।
.
.
Husband- बहुत सख्त व्रत रख रही हो, यह हर
किसी के
बस का कहाँ है। और कुछ खाने की इच्छा है ?
देखलो कहीं
कमज़ोरी न आ जाए।
.
.
.
.
अब तो बस दिन भर यही खौफ रहता है
.
.
.
.
.
की पड़ोसी आटे और शक्कर की तरह प्याज भी
ना मांगने आ जाये !!
.
.
.
ज़िंदगी में जब आपको कोई रास्ता दिखाई ना दे;
कोई मंज़िल दिखाई ना दे, कोई अपना दिखाई ना दे तो...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
मोबाइल में टॉर्च भी होती है उसे जला लेना।
.
.
.
.
नींद तो
बचपन में आती थी…..
.
.
.
.
.
.
अब तो
मोबाइल को
रेस्ट देने के लिए
सो जाते हैं….
.
.
.
.
माँ बच्चे से:
तू पूरा साल नहीं पढता और
Exams आते ही किताबों में
लग जाता है, क्यों?.. …
बच्चा:
क्योकीं लहरों का सुकून
तो सभी को पसंद है, लेकिन तुफानो में
किश्ती निकालने का मजा ही कुछ और है।
माँ:
“इधर आ.. “कुत्ते”.

तुझे मैं बनाती हूँ “TITANIC का ड्राईवर”
.
.
.
.
बस में कंडेक्टर :- मैडम इन बच्चों की उम्र कितनी है...??
महिला :- छोटा 2 साल,
बीचका 2.5 साल और बड़ा 3 साल का !
बस कंडेक्टर :- मैडम टिकट नही लेना हो तो उम्र भले ही कम बताओ.... पर गेप तो कम से कम 9 महीने का रखो ।

मैडम :- बीच का बच्चा मेरे देवरानी का है कलमुहे