Thursday, 31 December 2015

Hindi Jokes ............. महिलाओँ को सुधारने की कोशिश कभी न करेँ

 अखिलेश- अब ओड इवन फॉर्मूला यूपी में भी होगा, ओड डे पर बिजली नही आएगी
पत्रकार- और इवन डे पर ?
अखिलेश- उस दिन पानी भी नही आएगा .
.
.
.
आज का ज्ञान
महिलाओँ को
सुधारने की कोशिश कभी न करेँ
क्योँकि
पहले भी आपके दादा परदादा
असफल कोशिशेँ करते हुये
वीरगति को प्राप्त हो चुके है।
.
.
.
.
.
Today I (Civil Engineer) asked myself how to handle life ?
My room gave me the perfect answer -
Roof said: Aim high;
Fan Said: Be cool;
Clock said: Value time;
Calendar said: Be up to date;
Wallet said: Save now for future;
Mirror said: Observe yourself;
Wall said: Share other's load;
Window said: Expand the vision;
Floor said: Always be down to earth
.
.

This was the real msg....





.
Now the joke begins....
Then I looked @ my bed. And the bed said:
"kitni thand hai..
rajayi odh ke soja pagal...
sab moh maya hai"
.
.
.
.
शराब  के उस बार के सामने एक छोटा सा तालाब था।
झमाझम  बारिश हो रही थी और उस  बारिश में पूरा भीगा हुआ एक बुजुर्ग आदमी एक छड़ी पकड़े था जिससे बँधा धागा तालाब के पानी में डूबा हुआ था।
एक राहगीर ने उससे पूछा---" क्या कर रहे हो बाबा ? "
बुजुर्ग---" मछली पकड़ रहा हूँ। "
राहगीर बारिश में भीगे उस बुजुर्ग को देख बहुत दुखी हुआ।
बोला---" बाबा, मैं बार में  व्हिस्की पीने जा रहा हूँ। आओ तुम्हें भी एक पैग पिलाता हूँ। ऐंसे तो तुम्हे सर्दी लग जायेगी। आओ अंदर चलें। "
बार के गर्म माहौल में बुजुर्ग के साथ व्हिस्की पीते महाशय ने बुजुर्ग से पूछा---" हाँ तो, बाबा, आज कितनी  मछलियाँ फसीं ? "
बुजुर्ग बोला---" तुम आठवीं मछली हो, बेटा! "
.
.
.
.
ग्राहक :शर्ट दिखाओ!!
दुकानदार :ये लिजिये शानदार पीटर इंग्लैंड का शानदार शर्ट...
ग्राहक: कितने का है?
दुकानदार :मात्र ₹3500 का
ग्राहक: भैया आपके पास
पीटर फैज़ाबाद ,
पीटर गोण्डा या
पीटर बाराबंकी का शर्ट नहीं है क्या...!!!!
 

Hindi Jokes ....... हे बहिन इ हसबैंड क्या होता है

 शराब  के उस बार के सामने एक छोटा सा तालाब था।
झमाझम  बारिश हो रही थी और उस  बारिश में पूरा भीगा हुआ एक बुजुर्ग आदमी एक छड़ी पकड़े था जिससे बँधा धागा तालाब के पानी में डूबा हुआ था।
एक राहगीर ने उससे पूछा---" क्या कर रहे हो बाबा ? "
बुजुर्ग---" मछली पकड़ रहा हूँ। "
राहगीर बारिश में भीगे उस बुजुर्ग को देख बहुत दुखी हुआ।
बोला---" बाबा, मैं बार में  व्हिस्की पीने जा रहा हूँ। आओ तुम्हें भी एक पैग पिलाता हूँ। ऐंसे तो तुम्हे सर्दी लग जायेगी। आओ अंदर चलें। "
बार के गर्म माहौल में बुजुर्ग के साथ व्हिस्की पीते महाशय ने बुजुर्ग से पूछा---" हाँ तो, बाबा, आज कितनी मछलियाँ फसीं ? "
बुजुर्ग बोला---" तुम आठवीं मछली हो, बेटा! "
.
.
.
.
ग्राहक :शर्ट दिखाओ!!
दुकानदार :ये लिजिये शानदार पीटर इंग्लैंड का शानदार शर्ट...
ग्राहक: कितने का है?
दुकानदार :मात्र ₹3500 का
ग्राहक: भैया आपके पास
पीटर फैज़ाबाद ,
पीटर गोण्डा या
पीटर बाराबंकी का शर्ट नहीं है क्या...!!!!
.
.
.
.
.
Communication Gap :
मनपसंद मरम्मत का काम होने की खुशी में संता ने मिस्त्री को 1000 रुपये की बख्शीश देते हुए कहा :
जा, तू भी क्या याद करेगा. आज शाम को वाइफ को सिनेमा ले जा और उसके बाद किसी रेस्तरां में खाना खा.
शाम को दरवाजे की घंटी बजी. दरवाजा खोला तो मिस्त्री साफ-सुथरे कपडे पहने खडा था. संता ने उसे सिर से पैर तक देखा और कहा : कहिये मिस्त्री जी?

.
.
.
जी, आपकी वाइफ को लेने आया हूं ......
.
.
.
.
गांव की दो महिलाएं आपस में बात कर रही थी।
पहली बोली~हे बहिन इ हसबैंड क्या होता है।
दूसरी ने मुस्कुराते हुए कहा- बहिन ये अजीब तरह का बैंड होता है  जो केवल घर के बेलन से ही बजाया जाता है।इस बैंड को बजाने का आनंद केवल शादीसुदा औरतें ही ले सकती हैं   और इस बैंड की अच्छाई ये होती है इसे जितना बजाओगी उतनी ही मधुर धुन निकलेगी और धुन केवल घर के अंदर ही रहेगी । मजे की बात तो यह है कि इसे कितना भी बजाओ ये हँसता ही रहता है, इसीलिए इसे हसबैंड कहते हैं।

Happy new year 2016

Happy new year 2016


May your hair, your teeth, your face-lift, your abs and your stocks, mutual fund NAV, net worth, running speed, cross country skiing rating RISE;
and
May your blood pressure, your triglycerides, your cholesterol, your white blood count, resting heart rate, insurance premium, and your EMI FALL.

May you get a clean bill of health from your dentist, your cardiologist, your gastro-enterologist, your urologist, your proctologist, your podiatrist, your psychiatrist and your plumber.

May what you see in the mirror delight you, and what others see in you delight them.

May someone love you enough to forgive your faults, be blind to your blemishes, and tell the world about your virtues.

May you find the food better, the environment quieter, the cost much cheaper, and the pleasure much more fulfilling.

May the telemarketers wait to make their sales calls until you finish dinner & may the commercials on TV not be louder than the program you have been watching.

May you remember to say "I love you" at least once a day to your spouse, your child, your parent, your siblings; but not to your secretary, your nurse, your masseuse, or es TVcort. In
And May you take steps to make the world a better place!

HAPPY NEW YEAR.

Hazrat Nizamuddin Aulia



by  Vipin Tyagi
Hazrat Nizamuddin Aulia was a great saint, and it is said that no one who ever approached him went empty-handed. So a poor man, who had a daughter to marry off, once came to him and begged for his help.
“My son,” the saint told him, “whatever offering comes to me during the next three days, I will gladly give to you.”
Filled with hopeful anticipation, the poor man stayed for three days with the saint. But during that time not as single soul brought any offering to him. On the evening of third day, when the poor man, his high hopes dashed, was weeping miserably, Nizamuddin Auliya gave him his own shoes.
“Take this, my good man,” he said, “for what they may be worth. They are the only possessions I have, and, at the least, you can sell them for enough to buy a day’s supply of food.”
Greatly disappointed, the poor man nevertheless thanked the saint for his kind gesture and left, to return to his village. As he trudged wearily along the dusty road cursing his luck, he saw approaching him a large caravan of richly appointed and heavily laden camels. It was the caravan of Amir Khusro, who was returning from Kabul with all of his many possessions, after retiring from the king’s service.
Amir Khusro himself was riding at the head of the caravan, and, as he approached the poor man, he began to smell the fragrance of his beloved Master. After he had ridden past the poor man, he noticed that the fragrance came from behind him. Both puzzled and intensely curious, Amir Khusro at once got down from his camel and ran after the poor man.
“Who are you, friend,” he asked,”Where have you come from?”
The poor man, still feeling miserable and wretched, told the whole story of his three days’ stay with the great saint, and held up the pair of shoes to show how old and of little value they were.
“Would you sell the shoes to me, my good man?” Amir Khusro asked with some impatience.
“Why, by all means, noble Sir. I was hoping to sell them in the next village, so I could get a little food, for otherwise I would go hungry,” the wretched fellow replied.
“I will pay well for them,” said Amir Khusro.”Give me the shoes, and in return you may have all my caravan, including all my camels and their loads, except for the two beasts that are carrying my wife and children.”
Overjoyed at this unexpectedly good fortune, the poor man thanked Amir Khusro profusely, and went away rejoicing at the head of the great caravan.
Amir Khusro eventually reached his Master and placed the pair of shoes at his feet.
“And how much, my son, did you pay for such an old pair shoes?” asked Nizamuddin smiling.
“Sir, I have everything I had, except for the two camels, that are standing here,” Amir Khusro told him humbly. Again Nizamuddin smiled, ”You got them cheap.”
When he realized the depth of Amir Khusro’s love, Nizamuddin ordained that when they died they should be buried side by side. “If you dig Khusro’s grave anywhere else, he will break from the tomb to be with me,” said the saint.
He and His Holiness Hazrat Syed Nizamuddin Aulia shared the same passion for music. Amir Khusro was a noble man, Sufi Saint and a Faqir. He was the founder of many musical instruments (Sitar and Tabla) and Urdu. According to Mir Khurd, that all the Qawwals of the city used to come at his Jamat Khana and in his guidance they raised music to the height of a sublime art. They gave new flavour and vitality to the ghazals. Thus they raised the art of music to the level of a spiritual discipline.
Hazrat Amir Khusro became His Holiness’ favourite disciple and wrote about his teachings. He followed the middle path; never abandoned his courtly life; but moved towards practices of tasawwuf (Sufism). He spent most of the time in writing Khamsa.
The first of this series of Masnavi called "Khamsa-e-Khusrawi" is his Matla-ul-Anwar. This Masnavi was composed by Amir Khusro in 697 A.H/1297 A.D written within two weeks. In this Masnavi, Amir Khusro has expounded his views and attitudes towards Shariat, Tareeqat, Marifat and Haqeeqat. According to him "Shara" acquires meaning when it maintains a close relation with Haqeeqat (reality) i.e. when it partakes the essence of reality-love of God! If Shara is taking in or in other words if it is without "Ain" (i.e. the essence of God love) it becomes Shar (evil). Similarly his attitude towards the Sufis, of his time was very critical. It is worth quoting in this connection a few lines from his Masnavi, "Matla-ul-Anwar."
"Ah! What a shameful scene this band of pretenders to abstinence, present. They wear short sleeves (pose as Fakirs) but keep their hands stretched in begging. They pretend to obstinate but they are always in pursuit of money. They are commercialized Fakirs. How can one love God and Mammon both at one time. As God is without any shadow of dualism and does not like dualism in the path of love."
In another way he described ascent to the sanctuary of God, in a nocturnal dream in the Masnavi, as under:
"It was on account of my spiritual exercises which were free from hypocrisy, God in the middle of night blessed my eyes with immortality. My spiritual exercises received the cash of hope. As soon as I pocketed that cash from the heaven. Echoed loudly a voice of welcome from the invincible world!"
His spiritualism was in the philosophy of love, which he shared with all the Sufis. The depth of humanity in his poetry comes from the "Divine love–which is infinite and covers the entire cosmos."
In the Masnavi, Khusro expresses in general the life of heat, which burns like a candle in love of beauty "What is the life of a heart? It lies in its burning with the passion of love and sorrows. If a lamp ceases to burn or does not burn at all it is called a dead lamp. A heart which is captivated by a beautiful face, however hard may be, it will grow soft or melt like wax. Like most of the Sufis of his time, he opined the origin of man. The spirit of man was from God’s spirit and man was moulded in the nature of God with regard to his potential or ideal development. In a "Qaseedah", Khusro exhorts man to "swim across the ocean of firmament from end to end like the sun, and not to behave like the particles of dust dancing in the wind."
He was the man of courage and strength and spoke before the King about the value of equality of all human beings. In a verse, he observes:
"Though my value may be a little less, than that of yours, yet, if your veins were to be cut open, our blood will be of the same colour."
His different reflection of the same thought written in a prose is as under:
"Oh, Brahmin, can’t you take me into your fold, this one who has been rejected by Islam for no other fault but for his worship of the idol (beloved Guru) or is it so that for a person like me who is misled. There is no access even to the presence of that idol (Holy Master)."
Amir Khusro was free from prejudice, bigotry and fanaticism. He loved people of every religion and every country and was sympathetic towards all the creations of God. This was the common attitude amongst the Sufis who preached toleration in religious affairs and loved mankind. Love of God is identical with the lover of humanity. A love of God, according to the Sufi is that, one who loves all the creations of God and loves all human beings irrespective of caste, creed and religion.
He says, "Men of insight know that man is blind and undoubtedly blind. He calls himself a lover but does not regard a Negro worth his love or devotion…….Love is deep rooted in human nature and inclination towards another soul. Love in fact beautifies the soul and beauty of the soul resides in the love of humanity!"
Love, the Sufis believe is greater than religion, "Love is the essence of all creeds." No religion is more sublime than the religion of love and longing for God. Every worshipper worships God out of love, love enslaves him. The true mystic welcomes love in any disguise. One who has a perfect insight beholds God in everything, though one worships Him through some medium. Animosity and aggression are against the spirit of Quran which is as follows:
"Oh, people of the book! Do not transgress the bounds of your religion. Speak nothing but the truth about Allah Tala (God)."(Quran: 4-171)
"There shall be no compulsion in religion, for the right way is clearly distinguishable from the wrong way." (Quran)
"Invite people to the way of Thy Lord in a suitable manner and with tender exhortation, and discuss things with them in an agreeable style. Thy Lord Knoweth best who hath strayed from His path and knoweth best who is guide a right…(Quran)".
Hazrat Amir Khusro has said:
"Love of the Beloved takes us to Kaba and to the temple of idols."
"Lovers of the Friend (God) do not consider what infidelity and faith is!"
Hazrat Amir Khusro states that the Hindus also believe in Oneness of God and he says:
"They confess the Oneness, the Existence and the Eternity of God. His power to create, all, after death and one existence. Love is not like a cup of wine, given to the indiscreet. Tears are not like rubies gifted to worthless one."
The Sufis believe that God reveals His secrets to His lovers. His Holiness, Mehboob-e-Elahi says: "God gives insight to His lovers, so that they understand the reality of the whole Universe".
Hazrat Amir Khusro holds that, an intellectual even after thinking deeply and diligently cannot comprehend the mysteries of spiritual life, and his mental effort to, understanding them gives him headache. "Wisdom at last becomes headache, consequently the Gnostics choice is madness of love."
Love of God gradually makes man,–"God-intoxicated" and he renounces his animal self and tendencies (vasanas). The lover of God should first subjugate his own self and renounce every thing except God.
Hazrat Amir Khusro further says:
"Put one step on your soul, the other one in His love.
No other way suits those who follow the path of love."
Amir Khusro regrets on the hostile attitude of people towards the lovers of God and says, "One who laughs at the affairs of lovers should weep at his own condition." If love is crime and if people call me an infidel because of it let them do so. I am not going to utter words in repentance as:
"Be a slave of love, O’Khusro and put your head beneath the sword."
He addressed the lovers and exclaims as under:
"Ye who have loving hearts be ready first to sacrifice your life at the onset. If at all ye wish to behold the countenance of thy Beloved."
The colour of Sufism and the flavour of His Holiness, Hazrat Nizamuddin Aulia (R.A) had intoxicated Hazrat Amir Khusro. It was Qutubuddin Mubarak Shah called Khusro when he ascended the throne in 716 A.H./1316 A.D. Amir Khusro said good bye to merry making parties and withdrawn himself and said:
"My heart is now satisfied with all sorts of pleasures and my mind has grown averse to haughtiness. My ears do not now respond to the call of Saqi to have a goblet of wine."
"Nor do I respond now to the bows (salams) of long necked flasks. My intellect has grown ripe in the fire of my old age. No longer do I entertain any greed or avarice in my heart."
Reflecting in the love of His Holiness Mehboob-e-Elahi, Amir Khusro said:
"Love of anything, except God, makes death difficult and painful, whereas death is easier and agreeable to the lover of God, who is dearer to Him than anything else, his death is a change for the better which makes him immortal and lovable in the eyes of men and of God. Death overcomes man but the lover of God overcomes death."
He further states, "the lovers when want to behold thee, have got to suffer in hundred ways, but only one consolation they have, their death becomes easy for them".
Hazrat Amir Khusro was a mild, sympathetic, benevolent, righteous and God-fearing Sufi. He was not proud and haughty. He disliked flattery which is written in his Odes (Qaasid). He regularly wrote Odes (Qasaid) to earn his livelihood. In his "Bahrul Abrar" he says:
"Kings’ drum is empty and all its noise a headache. Whoever is contented with dry and wet (morsel) is like a king of lands and water. Man hidden in rugs is like a king of the world.”
Whatever he earned, he gave all of it in charity and lived a simple life. Thus the mystics and Sufis taught mankind to have a simple and good life. They preferred poverty to wealth, pomp, luxury and sensuality. Prophet Muhammed was proud of his poverty and said, "Poverty is my pride." This saying of His was taken as the watch word of all Sufi Orders. The Prophet also said:
"Poverty is glorious to those who are worthy of it."
"Hazrat Ali advises, "Let not poverty and misfortune distress you. For as gold is tried in the fire, the believer is exposed to trials. More over riches and poverty are not the factors that determine man’s satisfaction and happiness. It all depend on man’s inner feelings and love for God".
Hazrat Amir Khusro (R.A) reminds us of the danger and evil consequences of being rich and pleasure loving and says:
"If you want to be far from countless sorrows. Be happy and contended with your meagre fortunes. Blessed one the souls that passed away and were clean like the sun. And who did not cast even their shadow on the wealth of the world. Life is always full of ups and downs, inconsistency and instability, the superior becomes inferior, the powerful becomes powerless, and the lively becomes lifeless."
Hazrat Amir Khusro once said:
"The monarchs who were once the crowns in the heads of the people, see what just the dust on the feet of people remains of them now! Heads of all the kings who are now concealed under the ground were the heads which were once raised up high in sky. You cannot earn wealth and status by worshipping the king like a dog. Be at the service of a dervish for this is a more respectable way of reaching glory!"
"Man with an insight even if he is covered in rugs rules the world, the sword may be sheathed and yet it protects the country."
"The egoism (Nafs) eats dust when the Radiance sheds lustre upon you, the shadow falls under the feet when the sunshines over the head."
"Oh, God bestow your favour upon me throughout the life. To enable me perform my duties toward God and the Prophet."
Hazrat Amir Khusro was a great poet, writer and a Sufi fakir till his last breath. The end came suddenly between the Master and the disciple. Hazrat Amir Khusro was in Lakhnawti. Upon news of his illness, Hazrat Amir Khusro came back to Delhi but in vain to find that the Light was put off. He stood there seeing his Beloved Master who had left him alone. With his tearful eyes and heavy mournful heart he broke down and uttered a loveable memorable couplet:
"Gori sove sej per mukh per dare kes
chal Khusro ghar apne, ren bhayi chahun des."
("O, handsome you are sleeping on a nice bed covering your face with the hair, when everywhere there is darkness without Him, so Khusro you leave this world.")
Hazrat Amir Khurd writes in ‘Siyarul Aulia’: that "Immediately when Khusro arrived to Delhi he went to the grave of His Holiness Hazrat Syed Nizamuddin Aulia, where he blackend his face and rolled over in dust in utter grief tearing his garments." Six months after the event in the same year on 18th shawwal 725H/1325 A.D. on the same day His Holiness broken-hearted disciple Hazrat Amir Khusro left this enchanting world of colours and conflicts.”

The Boarding on Flight 2016 has been announced......

The Boarding on Flight 2016 has been announced......
Hope you have checked in only the best souvenirs from 2015 in your luggage....
The BAD and SAD moments if carried, must be thrown away in the garbage on arrival .......
The flight will be for 12 months long. 
So, loosen your seat belts, jingle and mingle.

The stop-overs will be :

Health, 
Love, 
Joy, 
Harmony, 
Well-being 
Peace.

Refueling will be at 
Giving
Sharing   
Caring.

The Captain (God) offers you the following menu which will be served during the flight.......

 Cocktail of Friendship, 
 Supreme of Health, 
 Grating of Prosperity, 
Bowl of Excellent News 
✅Salad of Success, 
 Cake of Happiness,

All accompanied by  bursts of laughter... 
But remember, you will enjoy these meals and the journey better if you talk, share, smile and laugh together. Sitting silent and sullen will make the flight seem longer.

Wishing you and your family  an enjoyable trip on board of flight 2016.....
 .

Before the Flight 2015 ends,
Allow us to Thank All  our Amazing  Friends
Who Made 2015 Beautiful For us, 
We Pray that you all be Blessed With an Awesome Year Ahead.
 

मेरी लिखी किताब मेरे ही हाथो मे देकर वो कहने लगी......

 आज इंसान इसलिए भी
परेशान है क्योंकि,

जो गर्मी रिश्तों में होनी चाहिए
वो हमारे दिमाग में है..!!
.

.
.
.
आसमां में मत दूंढ अपने सपनो को,
सपनो के लिए तो ज़मी जरूरी है
सब कुछ मिल जाए तो जीने का क्या मज़ा,
जीने के लिये एक कमी भी जरूरी है...!!!!
.

.
.
.
मेरी लिखी किताब मेरे ही हाथो मे देकर वो कहने लगी......
इसे पढ़ा करो मोहब्बत सीख जाओगे
.

.
.
 नही छोड़ी कमी किसी भी रिश्ते को निभाने में मेने कभी..!!
आने वाले को दिल का रास्ता भी दिया और जाने वाले को रब का वास्ता भी दिया..!!
.

.
.
.
 क्रोध के दो मिनट
एक युवक ने विवाह के बाद दो साल बाद परदेस जाकर व्यापार की इच्छा पिता से कही. पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी
गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार को चला गया.
.
परदेश में मेहनत से बहुत धन कमाया. 17 वर्ष धन कमाने में बीत गए तो सन्तुष्टि हुई और वापस घर लौटने की इच्छा हुई. पत्नी को पत्र लिखकर आने की सूचना दी और जहाज में बैठ गया.
.
उसे जहाज में एक व्यक्ति मिला जो दुखी मन से बैठा था.
सेठ ने उसकी उदासी का कारण पूछा तो उसने बताया कि इस देश में ज्ञान की कोई कद्र नही है. मैं यहां ज्ञान के सूत्र बेचने आया था पर कोई लेने को तैयार नहीं है.
.
सेठ ने सोचा इस देश में मैने तो बहुत धन कमाया. यह तो मेरी कर्मभूमि है. इसका मान रखना चाहिए. उसने ज्ञान
के सूत्र खरीदने की इच्छा जताई. उस
व्यक्ति ने कहा- मेरे हर ज्ञान सूत्र की कीमत 500 स्वर्ण मुद्राएं है.
.
सेठ को सौदा महंगा लग तो रहा था लेकिन कर्मभूमि का मान रखने के
लिए 500 मुद्राएं दे दीं. व्यक्ति ने ज्ञान का पहला सूत्र दिया- कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट रूककर सोच लेना. सेठ ने सूत्र अपनी किताब में लिख लिया.
.
कई दिनों की यात्रा के बाद रात्रि के समय अपने नगर को पहुंचा. उसने सोचा इतने सालों बाद घर लौटा हूं क्यों न चुपके से बिना खबर दिए सीधे पत्नी के पास पहुंच कर उसे आश्चर्य उपहार दूं.
.
घर के द्वारपालों को मौन रहने का इशारा करके सीधे अपने पत्नी के कक्ष में गया तो वहां का नजारा देखकर उसके पांवों के नीचे की जमीन खिसक गई. पलंग पर उसकी पत्नी के पास एक युवक सोया हुआ था.
.
अत्यंत क्रोध में सोचने लगा कि मैं परदेस में भी इसकी चिंता करता रहा और ये यहां अन्य पुरुष के साथ है. दोनों को जिन्दा नही छोड़ूंगा. क्रोध में तलवार निकाल ली.
.
वार करने ही जा रहा था कि उतने में ही उसे 500 अशर्फियों से प्राप्त ज्ञान सूत्र याद आया- कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट सोच लेना. सोचने के लिए रूका. तलवार पीछे खींची तो
एक बर्तन से टकरा गई.
.
बर्तन गिरा तो पत्नी की नींद
खुल गई. जैसे ही उसकी नजर अपने पति पर पड़ी वह ख़ुश हो गई और बोली-आपके बिना जीवन सूना सूना था. इन्तजार में इतने वर्ष कैसे निकाले यह मैं ही जानती हूं.
.
सेठ तो पलंग पर सोए पुरुष को देखकर कुपित था. पत्नी ने
युवक को उठाने के लिए कहा- बेटा जाग. तेरे पिता आए हैं. युवक उठकर जैसे ही पिता को प्रणाम करने झुका माथे की पगड़ी गिर गई. उसके लम्बे बाल बिखर गए.
.
सेठ की पत्नी ने कहा- स्वामी ये आपकी बेटी है. पिता के बिना इसकी मान को कोई आंच न आए इसलिए मैंने इसे बचपन से ही पुत्र के समान ही पालन पोषण और संस्कार दिए हैं.
.
यह सुनकर सेठ की आंखों से आंसू बह निकले.पत्नी और बेटी को गले लगाकर सोचने लगा कि यदि आज मैने उस ज्ञानसूत्र को नहीं अपनाया होता तो जल्दबाजी में कितना अनर्थ हो जाता. मेरे ही हाथों मेरा निर्दोष परिवार खत्म हो जाता.
.
ज्ञान का यह सूत्र उस दिन तो मुझे महंगा लग रहा था लेकिन ऐसे
सूत्र के लिए तो 500 अशर्फियां बहुत कम हैं. ज्ञान अनमोल है.
.
इस कथा का सार यह है कि जीवन के दो मिनट जो दुःखों से बचाकर सुख की बरसात कर सकते हैं. वे क्रोध के दो मिनट हैं.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
भागवत में भी यही संदेश दिया गया है.
कहा गया है कि यदि तुम्हारे काम से किसी का अपकार होता है तो उस काम को एक दिन के लिए टाल दो. यदि उपकार होता हो तो तुरंत करो ताकि कहीं उपकार का विचार न बदल जाए |
,

,
,
,
काग़ज़ के टुकडे करना आसान हॆ,
कपड़े के टुकडे करना ज़रा कठिन हॆ
औऱ इससे भी ज्यादा लोहे के टुकडे करना कठिन हॆ.
पर सबसे ज्यादा कठिन क्या हॆ जानते हो ???

भीतर रहते "अहम" के टुकडे करना !
...यह "अहम "टूटे तो ही सच्चे अर्थ मॆ "अहम " ( सौहम ) कॊ पाया जा सकता हॆ ....






Wednesday, 30 December 2015

Jokes .................. Accidents take seconds

 Public service Announcement.
Christmas and New Year is around the corner. Accidents take seconds to happen but suffering last a lifetime.
Helmets and Condoms should be worn on appropriate heads during respective rides.
Especially on vehicles that do not belong to you!!!!!
.

.
.
.
.
TEACHER: bachchon.... Kya tum ek ched ke under do ched daal sakte ho.????
BACHCHE: nahi sir...
TEACHER: Theek hai. Tum ghar jaakar apne parents ki madad lekar mujhe kal iska jawaab dena
Agle din bachche school aaye magar kisi ke paas jawaab nahi tha. Teacher ko bohot hansi aayi
TEACHER: tumhare parents bhi kitne budhdhu hai. Iska jawaab bohot aasan hai...
Ye kehkar teacher ne apne haath ki pehli ungli ko angoothe se milaya aur ek ring banaya. Phir us ring ko apne naak ke do ched par lagaya aur kaha "dekho kitna aasana jawab tha. Maine apni unglion se ek ched banaya aur apne naak ke do ched ke upar rakha aur isi tarha ek ched ke under do ched daal diye. Tumhare parents itna aasan jawab bhi nahi de paye.
Agle din student teacher ke paas aaya
STUDENT: Sir mere papa ne poocha hai ke kya aap ek ched ke under saat ched daal sakte hain???
TEACHER: nahi... Wo to impossible hai.
STUDENT: Possible hai. Mere papa ne kaha hai ke apne sir se kaho. Ek bansuri le apni gand mei daal le
 











मोदी की बिना योजना लाहौर यात्रा का विरोध करने वालों को जवाब देती नई कविता

मोदी की बिना योजना लाहौर यात्रा का विरोध करने वालों को जवाब देती  नई कविता


जिसकी आँखों में भारत की उन्नति का उजियारा है,
जिसकी गलबहियां करने को व्याकुल भी जग सारा है,



अमरीका जापान चीन इंग्लैंण्ड साथ में बोले हैं,
घूम घूम कर जिसने दरवाजे विकास के खोले हैं,



जिसके सभी विदेशी दौरे सफल कहानी छोड़ गए,
बड़े बड़े तुर्रम खां तक भी हाथ सामने जोड़ गए,



यूरेनियम दिया सिडनी ने,रूस मिसाइल देता है,
बंगलादेश सरहदों पर चुपचाप सुलह कर लेता है,



उन्ही विदेशी दौरों की अब खिल्ली आज उड़ाते हैं?
देश लूटने वाले उसको कूटनीति सिखलाते हैं,



कायम था ग्यारह वर्षों से,वो वनवास बदल डाला,
मोदी ने लाहौर पहुंचकर सब इतिहास बदल डाला,



जिस धरती पर हिन्द विरोधी नारे छाये रहते हैं,
जिस धरती पर नाग विषैले मुहँ फैलाये रहते हैं,



जिस धरती पर हाफ़िज़ जैसे लेकर बैठे आरी हों,
और हमारे मोदी जी की देते रोज सुपारी हों,



जहाँ सुसाइड बम फटते हैं रोज गली चौराहों में,
बारूदी कालीन बिछी है जहाँ सियासी राहों में,



जहाँ होलियाँ बच्चों के संग खेली खूनी जाती हों,
बेनजीर सी नेता भी गोली से भूनी जाती हों,



उसी पाक में पहुंचे मोदी,शोर मचाया संसद ने,
सभा बीच रावण की देखो पैर जमाया अंगद ने,



बिना सुरक्षा बिना योजना जाना एक दिलेरी है,
लगता है उलझन सुलझाने में कुछ पल की देरी है,



लाहौरी दरबार समूचा ही अंगुली पर नाचा है,
पड़ा मणीशंकर के गालों पर भी एक तमाचा है,



ये "रमेश जांगिड़ " कहे अब देखो जिगरा मोदी का,
जांबाजी से भरा हुआ है कतरा कतरा मोदी का,



अंगारों को ठंडा करदे,उसे पसीना कहते है,
इसको ही तो प्यारे छप्पन इंची सीना कहते हैं,














Hasya kavita .... सभी नारियाँ कहाँ रह गई. था ये अचरज भारी

अक्ल बाटने लगे विधाता,
लंबी लगी कतारें ।
सभी आदमी खड़े हुए थे,
कहीं नहीं थी नारें ।


सभी नारियाँ कहाँ रह गई.
था ये अचरज भारी ।
पता चला ब्यूटी पार्लर में,
पहुँच गई थी सारी।



मेकअप की थी गहन प्रक्रिया,
एक एक पर भारी ।
बैठी थीं कुछ इंतजार में,
कब आएगी बारी ।



उधर विधाता ने पुरूषों में,
अक्ल बाँट दी सारी ।
ब्यूटी पार्लर से फुर्सत पाकर,
जब पहुँची सब नारी ।



बोर्ड लगा था स्टॉक ख़त्म है,
नहीं अक्ल अब बाकी ।
रोने लगी सभी महिलाएं ,
नींद खुली ब्रह्मा की ।



पूछा कैसा शोर हो रहा है,
ब्रह्मलोक के द्वारे ?
पता चला कि स्टॉक अक्लका,
पुरुष ले गए सारे ।




ब्रह्मा जी ने कहा देवियों ,
बहुत देर कर दी है ।
जितनीभी थी अक्ल वो मैंने,
पुरुषों में भर दी है ।



लगी चीखने महिलाये ,
ये कैसा न्याय तुम्हारा?
कुछ भी करो हमें तो चाहिए.
आधा भाग हमारा ।



पुरुषो में शारीरिक बल है,
हम ठहरी अबलाएं ।
अक्ल हमारे लिए जरुरी ,
निज रक्षा कर पाएं ।



सोचकर दाढ़ी सहलाकर ,
तब बोले ब्रह्मा जी ।
एक वरदान तुम्हे देता हूँ ,
अब हो जाओ राजी ।



थोड़ी सी भी हँसी तुम्हारी ,
रहे पुरुष पर भारी ।
कितना भी वह अक्लमंद हो,
अक्ल जायेगी मारी ।









Jokes ................. Alia Bhatt received lot of greetings on 25th Dec

 संस्कार की तो बात ही मत करो यारो
Admin साहब  की गर्लफ्रैंड चेटिंग भी घूँघट डाल के करती हे .
.
.
.
Alia Bhatt received lot of greetings on 25th Dec.
She got fedup and
Said: koi aur Rishta laao yaar...















I will not Marry Christmas .
.
.

बहुत जलील था वो दिन
इधर मुहब्बत किसी और की होने जा रही थी और
उधर लोग कह रहे थे....
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
एक पूडी और दियो नरम सी !!.

.
.
.
इतिहास गवाह है...
अलार्म बंद करने के बाद जितनी अच्छी नींद आती है... 

उतनी अच्छी नींद तो रात में भी नही आती कमबख्त....
.

.
.

"शादी शुदा आदमी का Whatsapp का Last Seen रात के 3 बजे हो तो इसका मतलब
पति तो सो गया था पर उसकी बीवी ने उसका फ़ोन चेक किया था।". .
.
.
.
संता क्लास मे हंस रहा था
1 लड़की बोली स्टॅंड अप कौन हो
तुम??
.
.
.
सांता :- तुम कौन हो?
.
.
.
लड़की :- मे मॉनिटर हूँ.
.
.
.
.
संता :- हा.हा.हा.हा.हा.
तेरे दिन गये पगली अब
लॅपटॉप और एलसिडी
का ज़माना है



















मंदे में पति की लिखी इक कवीता

मंदे में पति की लिखी इक कवीता


प्रिय क्यूँ तुम नए-नए सूट सिलाती हो !

पुरानी साडी में भी तुम अप्सरा सी नजर आती हो !!!

इन ब्यूटी पार्लरों के चक्करों में ना पडा करो !

अपने चांद से चेहरे को क्रीम पाउडर से यूँ ना ढका करो !!!

रेस्टोरेंट होटल के खाने में क्या रखा है !

तुम्हारे हाथों से बना बैंगन का भर्ता, इनसे लाख गुना अच्छा है !!!

इन सैर सपाटों में वो बात कहाँ !

तुम्हारे मायके जैसा ऐशो-आराम कहाँ !!!

नौकरों से खिटपिट में, मत सेहत तुम अपनी खराब करो !

झाडू-पौछा लगा हल्का सा व्यायाम करो !!!

सोने-चांदी में मिलती अब सो सो खोट है !

तुम्हारी सुन्दरता ही 24 कैरेट प्योर गोल्ड है !!!

माया-माया मत किया कर पगली, यह तो महा ठगिनी है !

मेरे इस घर-आंगन की तो, तू ही असली धन लक्ष्मी है !!!

Tuesday, 29 December 2015

Happy new year

जनवरी मे आगाज होता है
नववर्ष का,
पति-पत्नी के बीच बिगुल
बज जाता है संघर्ष का!
मकर संक्रांति पर पत्नी
तिल का ताड बनाकर
लताडती है,
छब्बीस जनवरी को
पति की छाती पर
अपना झंडा गाड़ती है!
इसी बीच फ़रवरी आती है..
महाशिवरात्रि महापर्व
पर पत्नी अपने ब्रत
का असर मांगती है,
पति के सामने ही
भगवान से दूसरा वर
मांगती है!
मार्च मे होली..
रंगों की ठिठोली,
तब तो भगवान ही
रखवाला होता है,
पत्नी लाल पीली..
पति का मुह काला होता है!
अप्रैल मे अप्रैल फूल..
मई मे मजदूर दिवस..
जून मे जून ख़राब होती है..
जुलाई के सावन भादो खलते है,
15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस..
पति के मन में आज़ाद
होंने के अरमान पलते हैं!
सितम्बर में गणपति
बप्पा मोरया..
गण के साथ पति लगा है,
इसलिए बिसर्जन हो रिया!
अक्टूबर में डांडिया
का नजारा सीधा सट्ट है,
पति पत्नी नाच रहे हैं
दोनों के हाथ में लट्ठ है!
लट्ठ की दहशत कुछ
करने नहीं देती है,
पत्नी जीने नहीं देती है..
करवाचौथ मरने नहीं देती है!
नवम्बर में बीवी बच्चे
और बाजार मिलकर
लूटते हैं,
दीपावली के सारे पटाखे
पति की खोपड़ी पर फूटते है!
अंत में दिसंबर..
बेटा कुछ कर!
पति क्रिसमस पर
चर्च में जा कर माथा
टेकता है,
वहां भी ईसा मसीह को
सूली पे टंगा देखता है!
ईसा ईश्वर
पति परमेश्वर..
दोनों की एक ही गति
एक ही नियति..
समझ जाता है पति!!
सारे गम भूल जाता है..
फिर से हैप्पी न्यू इअर के
झूले में झूल जाता है!
ये भारतीय पति पत्नी के
प्यार का बवंडर है!
हर वर्ष का
शाश्वत दाम्पत्य कलेंडर है!!







Saturday, 26 December 2015

Hot Sunny Leone in " Super Girl from China"

Super Girl from China Fails to Create Sunny-Kanika Magic





Super Girl from China Fails to Create Sunny-Kanika Magic




Super Girl from China Fails to Create Sunny-Kanika Magic




Super Girl from China Fails to Create Sunny-Kanika Magic


Super Girl from China Fails to Create Sunny-Kanika Magic



Super Girl from China Fails to Create Sunny-Kanika Magic





Super Girl from China Fails to Create Sunny-Kanika Magic



Typical Punjabi way of Xmas greetings...

Now the typical Punjabi way of Xmas greetings...


Mata MARY nu munda hon diya lakh lakh wadhaiya...
Jesus babbbe di jai!!!! 
Happpy te mery xmas!! 

Twanu te Tuhade poore parivar nu Angreza de Gurpurab diyan lakh lakh wadhaiyaan hon ji.


Baba Shri Santa Claus Singhji twade ghar dher saari khushian laike aan. 
Merry Wala Christmas hai Ji 
 

दर्द भरा हास्य । वैवाहिक जीवन का पहला पड़ाव-

 एक बड़े जिले के डीएम साहब के बैडरूम की खिड़की
सड़क की ओर खुलती थी।
रोज़ाना हज़ारों आदमी और वाहन उस सड़क से
गुज़रते थे।
डीएम साहब इस बहाने जनता की परेशानी और
दुःख-दर्द को निकट से जान लेते।
एक सुबह डीएम साहब ने खिड़की का परदा
हटाया।
भयंकर सर्दी, आसमान से गिरती ओस, और भयंकर
शीतलहर।
अचानक उन्हें दिखा कि बेंच पर एक आदमी बैठा है।
ठंड से सिकुड़ कर गठरी सा होता।

डीएम साहब ने पीए को कहा- उस आदमी के बारे
में जानकारी लो और उसकी ज़रूरत पूछो !!!
दो घंटे बाद। पीए ने डीएम साहब को बताया-
सर, वो एक भिखारी है। उसे ठंड से बचने के लिए एक
अदद कंबल की ज़रूरत है।

डीएम साहब ने कहा- ठीक है, उसे कंबल दे दो।
अगली सुबह डीएम साहब ने खिड़की से पर्दा
हटाया। उन्हें घोर हैरानी हुई। वो भिखारी अभी भी
वहां जमा है। उसके पास ओढ़ने का कंबल अभी तक
नहीं है। डीएम साहब गुस्सा हुए और पीए पूछा- यह क्या है???

उस भिखारी को अभी तक कंबल क्यों नहीं
दिया गया???

पीए ने कहा- मैंने आपका आदेश तहसीलदार
महोदय को बढ़ा दिया था।
मैं अभी देखता हूं कि आदेश का पालन क्यों नहीं
हुआ।।।

थोड़ी देर बाद तहसीलदार साहब डीएम साहब के
सामने पेश हुए और सफाई देते हुए बोले- सर, हमारे
शहर में हज़ारों भिखारी हैं। अगर एक भिखारी
को कंबल दिया तो शहर के बाकी भिखारियों
को भी देना पड़ेगा। और शायद पूरे जिले में भी।
अगर न दिया तो आम आदमी और मीडिया हम
पर भेदभाव का इल्ज़ाम लगायेगा।।।

डीएम साहब को गुस्सा आया- तो फिर ऐसा
क्या होना चाहिए कि उस ज़रूरतमंद भिखारी
को कंबल मिल जाए???
तहसीलदार साहब ने सुझाव दिया- सर, ज़रूरतमंद
तो हर भिखारी है।।।

प्रशासन की तरफ से एक 'कंबल ओढ़ाओ, भिखारी
बचाओ' योजना शुरू की जाये।
उसके अंतर्गत जिले के सारे भिखारियों को कंबल
बांट दिया जाए।।।

डीएम साहब खुश हुए।।।
अगली सुबह डीएम साहब ने खिड़की से परदा
हटाया तो देखा कि वो भिखारी अभी तक बेंच
पर बैठा है।

डीएम साहब आग-बबूला हुए।
तहसीलदार साहब तलब हुए।
उन्होंने स्पष्टीकरण दिया- सर, भिखारियों की
गिनती की जा रही है ताकि उतने ही कंबल की
खरीद हो सके।

डीएम साहब दांत पीस कर रह गए।
अगली सुबह डीएम साहब को फिर वही
भिखारी दिखा वहां।।।

डीएम साहब खून का घूंट पीकर रहे गए।।।
तहसीलदार साहब की फ़ौरन पेशी हुई।
विनम्र तहसीलदार साहब ने बताया- सर, बाद में
ऑडिट ऑब्जेक्शन ना हो इसके लिए कंबल ख़रीद
का शार्ट-टर्म कोटेशन डाला गया है।
आज शाम तक कंबल ख़रीद हो जायेगी और रात में
बांट भी दिए जाएंगे।।।

डीएम साहब ने कहा- यह आख़िरी चेतावनी
है।।।

अगली सुबह डीएम साहब ने खिड़की पर से परदा
हटाया तो देखा बेंच के इर्द-गिर्द भीड़ जमा
है।।।

डीएम साहब ने पीए को भेज कर पता लगाया।।।।
पीए ने लौट कर बताया- सर कंबल नहीं होने के
कारण उस भिखारी की ठंड से मौत हो गयी है।।।
गुस्से से लाल-पीले डीएम साहब ने फौरन से
पेश्तर तहसीलदार साहब को तलब किया।
तहसीलदार साहब ने बड़े अदब से सफाई दी- सर,
खरीद की कार्यवाही पूरी हो गई थी। आनन-
फानन हमने सारे कंबल बांट भी दिए, मगर
अफ़सोस कंबल कम पड़ गये।।।

डीएम साहब ने पैर पटके- आख़िर क्यों???
मुझे अभी जवाब चाहिये।।।

तहसीलदार साहब ने नज़रें झुका कर कहा- सर,
भेदभाव के इल्ज़ाम से बचने के लिए हमने
अल्फाबेटिकल आर्डर(वर्णमाला) से कंबल बांटे।
बीच में कुछ फ़र्ज़ी भिखारी आ गए।
आख़िर में जब उस भिखारी नंबर आया तो कंबल
ख़त्म हो गए।।।।

डीएम साहब चिंघाड़े- आखिर में ही क्यों???
तहसीलदार साहब ने बड़े भोलेपन से कहा-
क्योंकि सर, उस भिखारी का नाम 'ज्ञ' से शुरू
होता था।।।

ऐसे हो गए हैं हम और ये है आज का सिस्टम.
यदि साहब खुद ही जा कर एक कम्बल चुपके से उस भिखारि को ओड़ा देते तो एक जान तो बच सकती थी
दोस्तों सेवा करनी है तो खुद आगे बड़ो किसी को आर्डर या किसी का इंतजार मत करो आपसे खुद से जितना हो सके सेवा करते चले

.
.
.
.
मेरे एक दोस्त को बेटा हुआ
4 महीने बाद उसका बेटा बीमार हो गया तो वो उसको उसी हॉस्पिटल मे ले गया जहा वो पैदा हुआ था।।

डॉक्टर को दिखाने के बाद , डॉ ने उससे अपनी फीस मांगी तो
दोस्त बोला:- काहे की फीस अभी तो इसको यही से लिए हुए 4 महीने हुए है ।।अभी तो ये वारण्टी मे है
हर चीज की 1 साल की सर्विस वारंटी होती है।।।
डॉ बेहोश
.

.
.
.
An Engineering student attended a Medical exam by mistake.
See his answers...
the last one is ultimate
.


1. Antibody - One who hates his body .
2. Artery - Study of Fine Paintings .
3. Bacteria - Back door of a Cafeteria .
4. Coma - Punctuation Mark .
5. Gall Bladder - Bladder of a Girl .
6. Genes - Blue Denim.
7. Labour Pain - Hurt at Work .

8. Liposuction - A French Kiss .

9. Ultrasound - Radical Sound .
10. Cardiology - Advanced Study of Playing Cards .....
11. dyspepsia : difficulty in drinking pepsi.
12.Chicken Pox- A dish
13.CT Scan: Test for identifying person's
city

14.Radiology- the study of how Radio works
15.Parotitis : inflammation of parrot

ULTIMATE-------!!!!!!

16. Urology: the study of european people

.

.
.
.
Teacher in final OBGY exam to student -
"why we don't give oxytocin IM for active 2nd stage of labour before delivery of anterior shoulder?"
Student -
"if shoulder is not out where will we find deltoid muscle for IM inj.
Teacher died
.

.
.
.
दर्द भरा हास्य ।
वैवाहिक जीवन का पहला पड़ाव-
नयी-नयी शादी हुई है,
"पतिदेव" प्रात: शेविंग कर रहे हैं तभी उनको ब्लैड लग जाता है।
आहs की हल्की आवाज उनके मुंह से निकली, और पत्नीजी किचिन से भागी हुई आयी!
'डार्लिंग' ब्लैड लग गया ! पति ने पत्नी से 'नार्मल' होते हुए कहा !
(पत्नी जल्दी से 'डिटाल' लाती है।)
अरे ! कितना सारा ब्लड निकल गया, आज आप आफिस मत जाइये, घर पर ही रेस्ट कीजिए ,फेसबुक चलाइये या व्हाट्सऎप दौड़ाइए ! हाय राम , दर्द हो रहा होगा न ? पत्नी दुःखी स्वर में 'डिटाल' लगाती हुई बोली!

वैवाहिक जीवन का दूसरा पड़ाव-
अब बच्चे हो जाते हैं,
"पति महोदय" रोज की तरह शेविंग कर रहे है, उनको ब्लैड लग जाता है।
उफ!! मीनूsss.....ब्लैड लग गया, 'पति महोदय' होने वाले 'दर्द' से भी 'तेज' चिल्लाये।
आप भी ना!!, इतने साल आपको सेविंग करते हुए हो गये, पर अभी तक आपको सेविंग करनी नहीं आयी, ये लो 'फिटकरी' लगा लो, मैं आपका और बच्चों का लन्च तैयार कर रहीं हूँ। पत्नी झल्लाती हुई 'फिटकरी' पटकते हुए वहां से चली गयी।

वैवाहिक जीवन का तीसरा पड़ाव-
बच्चों का विवाह हो चुका है। "पति जी" शेविंग कर रहे हैं और उनको ब्लैड लग जाता है!
हायsssss मर गया!!!
अरे 'पप्पू' की 'अम्मा' कहां है 'तू'?
''क्यों चिल्ला रहे हो, इतना गला फाड कर, ब्लैड ही लगा है, कोई तलवार तो नहीं लगी ? कितनी बार कहा है, अब अपने आप 'दाढ़ी ' मत बनाया करो, नाई से बनवा लिया करो, पर तुम्हे तो बुढ़ापे में जवान बनने की लगी है ना ? '
वृद्ध पत्नी बिस्तर में लेटे-लेटे चिल्लाई।
अलमारी में 'डिटाल' या 'फिटकरी' रखी होगी लगा लो!
ये कहकर पत्नीजी ने चादर मुंह तक तान ली!

किसी ने ठीक कहा है-
प्यार में हम ज्यों ज्यों आगे बढ़ते गये,
'आप' से 'तुम' फिर तुम से 'तू' होते गए ।
कुछ समझे " आप " ??









































Hindi naughty jokes ........... आ गया कमीना.... मेरे पति को बिगाड़ रखा है इसने


एक महिला ने आईटी टेक्नीकल सपोर्ट को फोन किया :
महिला : मुझे 'हस्बैंड 1.0' प्रोगाम में मुश्किल हो रही है।

टेक्नीकल सपोर्ट : कब से है यह दिक्कत।
महिला : देखिए, पिछले साल मैंने अपने 'बॉयफ्रेंड 5.0' को अपडेट कर 'हस्बैंड 1.0' इंस्टॉल किया था। उसके बाद से ही पूरा सिस्टम स्लो हो गया है।
खासतौर पर 'फ्लॉवर' और 'ज्वेलरी' एप्लीकेशन ने काम करना बंद कर दिया है।
ये एप्स 'बॉयफ्रेंड 5.0' में अच्छी चलती थीं।
इसके अलावा 'हस्बैंड 1.0' ने 'रोमांस 9.5' प्रोग्राम भी अनइंस्टॉल कर दिया है।
इसकी जगह 'न्यूज 5.0', 'मनी 3.0' और 'क्रिकेट 4.1' जैसे फालतू प्रोग्राम इंस्टॉल हो गए हैं।
अब मैं इसे कैसे सुधारूं ?

टेक्नीकल सपोर्ट : जी मैम,
'हस्बैंड 1.0' इंस्टॉल करने के बाद ऐसी समस्या होती रहती है।

सबसे पहले इस बात का ध्यान रखें कि 'बॉयफ्रेंड 5.0' एक एंटरटेनमेंट डेमो पैकेज था,
जबकि 'हस्बैंड 1.0' ऑपरेटिंग सिस्टम है।
इसे सुधारने के लिए 'आंसू 6.2' प्रोगाम डाउनलोड करें।

इससे 'ज्वेलरी 3.0' और 'फ्लॉवर्स 3.5' एप्लीकेशन अपने आप इंस्टॉल हो जाएंगी।
हालांकि याद रखें-
'आंसू 6.2' ज्यादा इस्तेमाल करने पर 'हस्बैंड 1.0' हमेशा के लिए 'साइलेंस 3.5' या 'बियर 3.1' पर चला जाएगा।

साथ ही 'हस्बैंड 1.0' के ओरिजनल पैकेज को डिस्टर्ब न करें।
ऐसा करने पर नया वायरस 'गर्लफ्रेंड 2.5' डाउनलोड हो जाता है।
इसके अलावा 'बॉयफ्रेंड 5.0' को दोबारा इंस्टॉल करने की कोशिश भी न करें।
ऐसा करने पर आपका लाइफ ऑपरेटिंग सिस्टम क्रैश हो जाएगा।
बाकी जैसी आपकी मर्जी


डिजिटल इंडिया
.

.
.
सच्चा दोस्त वही है जिसे देखकर
बीवी बोल पड़े
आ गया कमीना....
मेरे पति को बिगाड़ रखा है इसने।.
.
.
.
बीवियों के प्रकार
..
1. आलसी बीवी ::::::::::::: खुद जाकर चाय बना लो और एक कप मुझे भी दे देना। ...
..
2. धमकाने वाली बीवी :::: कान खोलकर सुन लो , या तो इस घर में तुम्हारी माँ रहेगी या मैं।
.
..
3. इतिहास-पसंद बीवी :::: सब जानती हूँ
तुम्हारा खानदान कैसा है। ...
.
.
4. भविष्य-वाचक बीवी ::: अगले सात जन्मों तक मेरे जैसी बीवी नहीं मिलेगी। ...
..
5. भ्रमित बीवी ::::::::::::: तुम आदमी हो या पजामा ?
..
6. स्वार्थी बीवी :::::::::::::ये साड़ी मेरी माँ
ने मुझे पहनने को दी है तुम्हारी बहनों के लिए नहीं। ..
..
7. शक्की बीवी ::::::::::::: मेरी कौन सी सौतन से फ़ोन पर बात कर रहे थे ?
..
8. अर्थशास्त्री बीवी ::::::::: कौन सा कुबेर का खजाना जमा कर लिया है जो रोज़ पनीर
खिलाऊँ?
..
9. धार्मिक बीवी ::::::::: शुक्र करो भगवान् का जो मेरे जैसी बीवी मिली।...
..
10. कुंठाग्रस्त बीवी::::::::::::: मेरे नसीब में तुम ही लिखे थे?

आपकी कौन सी है ! देख लें ?.
.
.
.
.
मास्टर - पहले मुर्गी आई या अंडा?
पप्पु - सर, पहले Blender's Pride की 2 बोतल आई, फिर एक बोतल Dew की आई, फिर चटपटे चने आए और उसके साथ ही अंडे आए
फिर मुर्गी आई , उसके साथ 2 तंदूरी रोटी आई, फिर स्वाद आया
मास्टर - बैठ जा पगले क्यु दिन मे ही मन भटका रहा है
.

.
.
.
दादा और एक दादी ने अपनी जवानी के दिनों को ताज़ा और relive करने की सोची.
उन्होन्ने प्लान किया कि वो एक बार शादी से पहले के दिनों की तरह छुप कर नदी किनारे मिलेंगे.
.
.
.

दादा तैयार शैयार होकर, बांके स्टाइल वाला बाल संवार कर, लंबी टहनी वाला खूबसूरत लाल गुलाब हाथ में लेकर नदी किनारे की पुरानी जगह पहूंच गये. उनका उत्सुक इंतज़ार शुरू हो गया. ताज़ी ठंढी हवा बहुत रोमैंटिक लग रही थी.
.
.
.

.
.
एक घंटा गुजरा, दूसरा भी, यहां तक कि तीसरा भी . पर दादी दूर दूर तक नहीं दिखी.

.
.
.

दादा को फ़िक्र नहीं हुई, बहुत गुस्सा आया .
झल्लाते हुए घर पहुंचे …….
…….
…….
तो देखा

दादी
.कुर्सी पर बैठी मुस्करा रही थी.

.दादा, लाल पीले होते हुए
" तुम आयीं क्यों
नहीं ?"

दादी, शरमाते हुए.
."मम्मी ने आने नहीं दिया."
.

.
.
.
पहला सरदार – मैंने अपनी वाईफ को १२ वी पास करवाई, फिर, बी. ए, .फिर एम .ए, और उसकी सरकारी जॉब लगवा दी, अब क्या करू?
.
.
.
.
.
दूसरा सरदार – तू तो बाप से बढ़कर है अब अच्छा लड़का देख कर उसकी शादी कर दे !

































Jokes on Men & Women

 कितने मसरूफ़ हैं हम जिंदगी की कशमकश में
इबादत भी जल्दी में करते हैं फिर से गुनाह करने के लिए
.
.
.
.
.
लड़की कुर्ता सिलवाने दर्जी के पास गयी और बोली,
'भईया, कुर्ते की बांह 'नेट' वाली बनाना।'
दर्जी : 2G या 3G ?….
.
.
.
.
.
उनको अपने हाल का हिसाब क्या देते
सवाल सारे गलत थे जवाब क्या देते
वो तीन लफ्जों की हिफाजत ना कर सके
उनके हाथ में जिंदगी की पूरी किताब क्या देते
.

.
.
.
.
बहुत लोग पूछते है कि कौन बेवफा है जो तेरी ये हालत कर गया
मैं मुस्कुरा के कहती हूं
उसका नाम हर किसी के लब पर अच्छा नहीं लगता
.

.
.
.
अब की बार एक अजीब सी ख्वाहिश जागी है
कोई टूट कर चाहे मुझे और मैं बेवफा निकलूं
.

.
.
.
Jokes on Men & Women
.

.

A Man having relations with Two Women is like
Bechaaraaa...
Saale ka dimag kharab he.
Ek Malkin kya kam thi jo dusri ki bhi naukri karne chala gaya .
Wo bhi without pay.
.

.

A Lady having relations with Two Men is like..
Bechaareee.....
Dono ka dimag kharab he
Saale dono sheron ki tarah larh marte hein Ek sherni ke chakkar mein.
.

.

Lesson to be learnt..
Men are always stuuuupid while Ladies are smarter.
 Men
 Ladies

Conversation on Mobile phone.
Wife -- Helo, kahan ho, Ghar kab aa rahe ho ?
Husband -- market me, ek derh ghanta lagega.
Wife -- theek he, enjoy shopping.
Samjho Ayi shamat pati ki
Ghar lotne par kher nahin
.

.
.
.

Husband -- Helo, Ap kahan hein , kitni der me ayengi Ap ?
Wife -- Market me hun , Do teen ghante lagege.
Husband -- koi baat nahin, enjoy your shopping.
He really means what he said.
.

.

Husband shocking
Wife rocking.




Friday, 25 December 2015

Wonderful answers On Quora ............. A must Read



The most popular Q&A platform on the web, Quora is a store-house of personal experiences, detailed insights about little known things and witty answers to the weirdest of questions.
We have handpicked a few of the most witty replies on Quora you shouldn't miss reading.



































__,_._,___

Thursday, 24 December 2015

Hindi Jokes ................. आदमी ससुराल में खाना खाते वक़्त:

 एक auto wale की शादी हो रही
थी।
जब उसकी दुल्हन फेरों के वक्त उसके


पास बैठी तो वह बोला,


थोड़ा पास होकर बैठो, अभी एक

और बैठ सकती है।.

.
.
.
 शुक्र है कि डॉक्टर ये नही बोलते....
"भैया... छूट्टा (खुल्ला) नही है..
कुछ दवाईयां और लिख दुं...
या एक ऑपरेशन और कर दुं...".

.
.
.
.
आदमी ससुराल में खाना खाते वक़्त:
आज खाना सासू माँ ने बनाया है क्या.?
-
बीवी - अरे वाह! कैसे पहचाना ?
-
आदमी - अरे जब तुम बनाती थी तो
खाने में से काले बाल निकलते थे!!
आज सफ़ेद बाल निकला है....
.

.
.
.
.
एक जंगल में दोपहर के वक्त एक खोह के बाहर एक खरगोश जल्दी-जल्दी अपने टाइपराइटर से कुछ टाइप कर रहा था
तभी वहां एक लोमड़ी आई उसने खरगोश से पूछा
लोमड़ी - तुम क्या कर रहे हो ?
खरगोश - मैं थीसिस लिख रहा हूँ
लोमड़ी - अच्छा ! किस बारे में लिख रहे हो ?
खरगोश - विषय है -- खरगोश किस तरह लोमड़ी को मार के खा जाता है ?
लोमड़ी - क्या बकवास है !! कोई मूर्ख भी बता देगा कि खरगोश कभी लोमड़ी को मार कर खा नहीं सकता ..
खरगोश - आओ मैं तुम्हें प्रत्यक्ष दिखाता हूँ
ये कह कर खरगोश लोमड़ी के साथ खोह में घुस जाता है और कुछ मिनट बाद लोमड़ी की हड्डियाँ लेकर वापस आता है और दोबारा से टाइपिंग में व्यस्त हो जाता है

थोड़ी देर बाद वहां एक भेड़िया घूमता-घामता आता है वो खरगोश से पूछता है
भेड़िया- क्या कर रहे हो इतने ध्यान से
खरगोश - थीसिस लिख रहा हूँ
भेड़िया - हाहाह किस बारे में जरा बताओ तो
खरगोश - विषय है - एक खरगोश किस तरह एक भेड़िये को खा गया
भेड़िया - गुस्से में .. मूर्ख ये कभी हो नहीं सकता
खरगोश - अच्छा !! आओ सबूत देता हूँ .. और कह कर भेड़िये को उस खोह में ले गया ... थोड़ी देर बाद खरगोश भेड़िये की हड्डी लेकर बाहर आ गया और फिर टाइपिंग में लग गया

उसी वक्त एक भालू वहां से गुजरा उसने पूछा ये हड्डियाँ कैसी पड़ी हैं ... खरगोश ने कहा एक खरगोश ने इन्हें मार दिया .... भालू हंसा ... और बोला मजाक अच्छा करते हो .. अब बताओ ये क्या लिख रहे हो ....
खरगोश - थीसिस लिख रहा हूँ .. एक खरगोश ने एक भालू को मार के कैसे खा लिया .....
भालू -- क्या कह रहे हो ?? ये कभी नहीं हो सकता ?
खरगोश - चलो दिखाता हूँ
और खरगोश भालू को खोह में ले गया ..... जहां एक शेर बैठा था ...... :)

इसी लिए ये मायने नहीं रखता कि आपकी थीसिस कितनी बकवास है या बेबुनियाद है ......... मायने रखता है ... ***** #आपका_गाइड_कितना_ताकतवर_है :D :D
यही आजकल हो रहा है ...... सुब्रमणियास्वामी स्वामी को खरगोश समझने की भूल करने वाले ये नहीं जानते की गुफा में एक शेर बैठा है जिसका नाम मोदी है :.
.
.
.
 ठेकेदार से 'बात' हो जाने पर,
बाबू ने साहब को बता कर फाइल रखी,
साहब ने लिखा "Approved".
.
.
दो दिन बाद, ठेकेदार वादे से मुकर गया।
बाबू ने साहब को बताया,
साहब बोले-अब क्या करें?
बाबू दिमाग का कमाल देखिये---
बाबू ने कहा-साहब Approved के पहले Not शब्द लिख दीजिए।
अब ठेकेदार परेशान।
.
.
फिर बाबू से मिलकर 'बात' बनाई।
बाबू फिर साहब के सामने फाइल लेकर पहुंचा।
साहब झल्लाये.....अब क्या करें?
फिर बाबू दिमाग का कमाल देखिये
.
.
बताइए बाबू ने क्या कहा?
.
.
.
बाबू ने कहा, साहब Not में केवल e लगा दें।
अर्थात.....'Note Approved'

आप ही बताइए कौन देश चला रहा है?










Hindi Jokes ...............

 My NEET UG kerala rank is 145. Which college do you suggest that I should join for MBBS?

Y: Calicut Medical College is a good bet. Anyway what do you want to do after MBBS

X: I will join MD Medicine

Y: After that?

X: I want to DM in Cardiology

Y: After that? You know that we have subspecialities now in Cardiology like Electrophysiology, Interventional Cardiology, Nuclear Cardiology or you can be a Clinical Cardiologist like Dr. Ankala Subbarao

X: I would like to become an Interventional Cardiologist.

Y: After that? You know that now there are CTO (Chronic Total occlusion) specialists, Complex angioplasters, specailists in Rotablator therapy. By the time you become a Cardiologist, I don't know how many more sub specialities are going to be there.

X: Bro, what is the best alternative to MBBS?
.

.
.
.
पतंजलि फार्मेसी की new research
पुत्रजीवक वटी को....


शहद के साथ खाने से योगेंन्द यादव,

रायता के साथ खाने पर केजरीवाल,
काली मिर्च के साथ चाटने से आशुतोष,
भूसे के साथ खाने पर राहुल गांधी,
स्वर्ण भस्म के साथ खाने पर मोदी,
Dog food के साथ खाने पर दीग्विजय,
शिलाजीत के साथ खाने पर आशाराम

चुपचाप खाने पर मनमोहन जैसे पुत्र होने की सम्भावना होती है.
.

.
.
.
बीबी (मायके से)
अपना ध्यान रखना, सुना है बहुत डेंगू फैल रहा है राजस्थान में।।।

पति (सिर पकड़ के)-- मेरा सारा खून तो तू पी गई थी, मच्छर क्या "रक्त दान" करने आएगा??
.

.
.
.
.
सच्चा दोस्त वही है जिसे देखकर
बीवी बोल पड़े

आ गया कमीना
मेरे पति को बिगाड़ रखा है इसने।?
















Recent Jokes ............

 Excellent innovation.
Samsung has just incorporated a new feature in their latest hand set ...
Concept: Make in India !

Say 'Modi' ....'Modi' ... twice in your handset and it goes into flight mode.

Say Singh Singh twice & it will take you to silent mode.
Say Arnaab Arnaab twice & it will swith on the loud speaker.
Say Kejri kejri twice & it will start shivering and go into vibrating mode.
Say Rahul Rahul twice & it will switch off the phone.

.
.
.
.
एक दिन मैं सुरेन्द्र शर्मा,
अपनी बहू को लेके सोनोग्राफी करवाने गयो,
वहाँ देख्यो-सफेद कोट पहने
एक डॉक्टर नुमा आदमी
बाबूनुमा कुछ कागज पत्री भरे से !
मैं पूछ्यो - भाया, डॉक्टर से मिलवाई दो
अपनी बहू की सोनोग्राफी करावे की सोचूँ !

उस आदमी ने अपने मोटे चश्मे से
आँखे घुमाते हुए मुझे बैठने का इशारा किया ।
थोड़ी देर बाद कागज पर
दस्तखत करने के बाद बोल्यो - हाँ,
अब बोल भाया,, मैं ही डॉक्टर छे,, का चाही ?

मैं बोल्यो -
फिर वो जो सोनोग्राफी करे से,, वो कौन ?
डॉ बोल्यो -
वो तकनीशियन है भाया !
अब वो ही सोनोग्राफी करे से,,
मैं फार्म भरूँ भाया !!
तू जाने न,, नये pcndt एक्ट में
सोनोग्राफी गलत होने पे कोई सजा नाए !
पर फार्म में जरा सी चूक होवे पे
जेल की रोटी तोड्वे परी !! !!
.

.
.
.
.
आसाराम ने अपने वकील को बुलाकर कहा वो अगली सुनवाई में उन्हें निर्दोष साबित करने की बजाए नाबालिग साबित करने की कोशिश करे।
.

.
.
.
शुक्र करो.. अभी तक किसी ने केजरीवाल को ये नहीं बोला कि ज्यादा ट्रैफिक, शादी के दिनों में होता है।
वरना फिर बोलेगा कि - एक दिन लड़कों की शादी होगी और एक दिन लड़कियों की।
.

.
.
.
 एक तर्क शायद पसंद आये...
यदि निर्भया के आरोपी को
नाबालिग समझकर छोड़ा जा सकता है तो....
आसाराम को सीनियर सिटीजन मानकर क्यों नहीं छोड़ रहे
अपराध और अपराधी भिन्न नही
.

.
.
.
साला इतनी ठण्ड में एक हफ्ता दारू नही पियो तो,
लिवर से आवाज आती है...
मालिक, जिन्दा हो या चल बसे।
.
.
.
.
 1.इंसान के अंदर जो समा जायें वो
" स्वाभिमान "
और
जो इंसान के बहार छलक जायें वो
" अभिमान "


2.इस कदर बट गए है ज़माने में सभी..

अगर खुदा भी आकर कहे.. "मै भगवान हूँ"...
तो लोग पूछ लेंगे...
"किसके"?


3.सलाह देने वाले लोगों के होते हुए भी...
अपनी आत्मा की आवाज सुनना सबसे बेहतर है।


4.जीवन में हजारों प्रलोभन होते हुए भी...
सिद्धांतों पर जीना सबसे बेहतरहै।


5.जिंदगी का सबसे बड़ा सच
यही है.. जो अकसर क़ब्रिस्तान के बाहर बोर्ड पर लिखा होता है...

"मंजिल तो यही थी, बस जिंदगी गुज़र गयी मेरी यहाँ आते आते"
.
6.ज़िंदगी का लम्हा बहुत छोटा सा है...

कल की कोई बुनियाद नहीं है
और आने वाला कल सिर्फ सपने में ही है..

अब बच गए इस पल में..
7.तमन्नाओं से भर इस जिंदगी में
हम सिर्फ भाग रहे हैं.

कुछ रफ़्तार धीमी करो, मेरे दोस्त,
और इस ज़िंदगी को जियो..
खूब जियो मेरे दोस्त..... ।।

सुबह से लेकर शाम तक भागना
रे मूर्ख इंसान कब करेगा साधना ...


8.जब सब तेरी मरजी से होता हे...
तो ऎ खुदा,
ये बन्दा गुनाहगार केसे हो गया...


9.""ज़िन्दगी में खुद को कभी
किसी इंसान का आदी मत बनाना...
…क्यूंकि इंसान बहुत खुदगर्ज है...
जब आपको पसंद करता है
आपकी बुराई भूल जाता है.
और जब आपसे नफरत करता है
तो आपकी अच्छाई भूल जाता है..."!


10.पांच लाख की गाडी में कभी मिट्टी का तेल नहीं डालते , क्यों ?
गाडी का इंजन खराब
हो जायेगा, पांच लाख की गाडी की तुमको इतनी चिंता है ?
इस अनमोल शरीर के इंजन मे क्या डालते है
विचार करो
नफरत घृणा दैष
खराब मन शरीर रूपी गाड़ी को कितना नुकसान देगा ?
करोडो के अनमोल शरीर के इंजन की भी उतनी ही चिंता करो जितनी अपनी गाडी की करते हो ..